ONLYIAS – Nothing else | UPSC IAS EXAM PREPARATION

भारत की मिट्टी

    भारत की मिट्टी

 

मिट्टी पृथ्वी की पर्पटी की सबसे ऊपरी परत है जिसमें कार्बनिक पदार्थों के साथ चट्टान के कण मिश्रित होते हैं। मिट्टी एक पारिस्थितिकी तंत्र की स्थिरता के लिए आवश्यक महत्वपूर्ण घटकों में से एक है क्योंकि यह वनस्पतियों के विकास के लिए महत्वपूर्ण प्राकृतिक माध्यम है और इस प्रकार यह पृथ्वी पर जीवन में मदद करती है।

भूगर्भीय रूप से, भारतीय मिट्टी को मोटे तौर पर प्रायद्वीपीय भारत की मिट्टी और अतिरिक्त प्रायद्वीपीय भारत की मिट्टी में विभाजित किया जा सकता है ।

  • प्रायद्वीपीय भारत की मिट्टी चट्टानों के स्वस्थानी अपघटन से बनती  है, अर्थात सीधे अंतर्निहित चट्टानों से बनती है।
  • प्रायद्वीपीय भारत की मिट्टी एक सीमित सीमा तक प्रवाहित होती है और जम जाती है, इसे तलछटी मिट्टी के रूप में जाना जाता है।
  • अतिरिक्त प्रायद्वीप की मिट्टी, नदियों और हवा के जमावीय कार्यों के कारण बनती है । ये बहुत गहरी होती हैं। उन्हें अक्सर परिवहन या अजोनल या गैर-क्षेत्रीय मिट्टी के रूप में संदर्भित किया जाता है।

 

मिट्टी के गठन को प्रभावित करने वाले प्रमुख कारक

मिट्टी की विशेषताओं को निर्धारित करने वाले प्रमुख कारक मूल सामग्री, जलवायु, उच्चावच, वनस्पति, समय और कुछ अन्य जीवन के रूप हैं।

Soil

  1. Parent Rock
    1. Parent Rock Determines colour, texture, chemical properties mineral, content, permeability
  2. Relief
    1. Altitude and slope, determine accumulation of soil
  3. Flora , fauna and Micro-organism
    1. Affect the rate of humans formation
  4. Time
    1. Determines thickness of soil profile
  5. Climate
    1. Temperature, rainfall influence rate of weathering and human formation

 

मूल सामग्री/पदार्थ

यह धाराओं द्वारा जमा की जाती है या स्वस्थाने अपक्षय से प्राप्त होती है। इस चरण में, मिट्टी खनिज संरचना, छाया, कण आकार और रासायनिक तत्वों जैसे कई गुण प्राप्त करती है।

उदाहरण के लिए

  • काली मिट्टी को इसका रंग लावा चट्टान से मिला है।
  • प्रायद्वीपीय मिट्टी मूल चट्टान के गुण दर्शाती है।
  • रेतीली मिट्टी बलुआ पत्थर से प्राप्त होती है।

जलवायु

यह मिट्टी के गठन में महत्वपूर्ण घटकों में से एक है क्योंकि यह मूल चट्टान के अपक्षय की गति को प्रभावित करता है।

  • वर्षा की भूमिका: वर्षा में परिवर्तनशीलता ,मिट्टी की संरचना को बदल देती है। उदाहरण के लिए- वाष्पीकरण की उच्च दर और कम वर्षा वाले क्षेत्रों की मिट्टी में लवण अधिक संचित हुआ है। इन वनों की मिट्टी में भारी बारिश से होने वाले गहन निक्षालन के कारण पोषक तत्व कम होते है ।
  • तापमान की भूमिका: यह भी एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है क्योंकि तापमान में भिन्नता के कारण सामान्यतः मिट्टी में संकुचन और विस्तार तथा अपक्षय होता है।

जैविक कारक (वनस्पति, जीव और सूक्ष्मजीव)

वातावरण के साथ मिलकर जैविक तत्व, मिट्टी का उत्पादन करने के लिए मूल चट्टान मे बदलाव करते है। उदाहरण के लिए- फलीदार पौधों (जैसे फली, मटर और मूंगफली) में नाइट्रोजन स्थिरीकरण करने वाले सूक्ष्म जीव होते हैं। ये पौधे नाइट्रोजन-स्थिरकृत बैक्टीरिया से सीधे नाइट्रेट आयन लेते हैं। वायुमंडलीय नाइट्रोजन को स्थिरीकरण द्वारा अमोनिया या अमोनियम मे परिवर्तित करने से मिट्टी की उर्वरता मे सुधार होता है।

स्थलाकृति

स्थलाकृति, मिट्टी की सतह पर पहुंचने वाले पानी को पुनर्वितरित करती है। उच्चभूमि मे बारिश होने से तराई क्षेत्र पर नमी की परिस्थितियां बनती है, कुछ स्थितियों में ये दलदल या जैविक मिट्टी के रूप मे परिवर्तित हो जाते है। इस तरह, जलवायु के पुनर्वितरण कारक के रूप में, स्थलाकृति मिट्टी के रूपों, मिट्टी के वितरण और उस स्थान पर वनस्पति के प्रकार को प्रभावित करती है।

समय

मिट्टी को आकार प्राप्त करने में कई साल लग सकते हैं। नई मिट्टी में उनकी मूल सामग्री वाले कुछ गुण होते हैं, हालांकि समय के साथ कार्बनिक पदार्थ के विस्तार, नमी और अन्य पारिस्थितिक कारकों के संपर्क में आने से इसकी विशेषताओं मे बदलाव आ सकता हैं। समय के साथ, ये मिट्टी नीचे बैठती है और इसके ऊपर और भी मिट्टी जम जाती है, जिससे इसकी विशेषताओं को बदलने में समय लग जाता है। अंत में, ये एक मिट्टी के प्रकार से दूसरे में बदल सकती हैं।

गठन के आधार पर भारत की मिट्टी को निम्नलिखित दो श्रेणियों में बांटा जाता है:

  • अवशिष्ट मिट्टी → जो अपने स्रोत के स्थान पर बनती है जैसे काली मिट्टी
  • प्रवाहित मिट्टी → जो अपने स्रोत के स्थान से दूर चली जाती है जैसे जलोढ़ मिट्टी

मृदा प्रतिरूप (मृदा क्षितिज)

मृदा प्रतिरूप मिट्टी का एक ऊर्ध्वाधर चित्रण है जो मिट्टी के सभी क्षितिजों को चित्रित करता है। यह मिट्टी की सतह से मूल चट्टान सामग्री तक सभी को सम्मिलित करता है।  मृदा प्रतिरूप में बहुत सी परतें शामिल होती है, जो सतह के समानांतर होती हैं, इनको मृदा क्षितिज कहा जाता है। ये परतें अपने भौतिक और रासायनिक गुणों से विशिष्ट होती हैं।

मृदा क्षितिज को तीन  श्रेणियों − क्षितिज A, क्षितिज B और क्षितिज C में व्यवस्थित किया जाता है। इन्हे सामूहिक रूप से मृदा प्रतिरूप के रूप में जाना जाता है। इन तीनों के अलावा O, E और R क्षितिज भी होते हैं ।

O क्षितिज मिट्टी की यह शीर्ष कार्बनिक परत, आम तौर पर पत्ती कूड़े और ह्यूमस (विघटित कार्बनिक पदार्थ) से बनी होती है।

A क्षितिज परत को टॉपसाइल/ऊपरी मिट्टी कहा जाता है; यह O क्षितिज के नीचे और E क्षितिज के ऊपर पाई जाती है। इस गहरे रंग की परत में बीज विकसित होते हैं और पौधे की जड़ें बढ़ती हैं। यह खनिज कणों के साथ ह्यूमस (विघटित कार्बनिक पदार्थ) के मिश्रण से बनती है।

E क्षितिज यह निक्षालित परत हल्के रंग की होती है; यह परत Aक्षितिज के नीचे और B क्षितिज के ऊपर होती है । यह ज्यादातर रेत और गाद से बनती है, मिट्टी के माध्यम से पानी नीचे निक्षालित हो जाता है जिससे यह मिट्टी अपने अधिकतर खनिज खो देती है।

B क्षितिज इसे उप-मृदा भी कहा जाता है। यह परत E क्षितिज के नीचे और C क्षितिज के ऊपर होती है। इसमें मिट्टी और खनिज भंडार (जैसे लोहा, एल्यूमीनियम ऑक्साइड और कैल्शियम कार्बोनेट) भरपूर होता है क्योंकि ऊपर की परतों से खनिज पदार्थ रिसते हुए इस परत मे आ जाते है।

C क्षितिजइसे रेगोलिथ भी कहा जाता है। यह B क्षितिज के नीचे और R क्षितिज के ऊपर होती है। इसमे पत्थर के छोटे छोटे टुकड़े होते है। पौधों की जड़ें इस परत में प्रवेश नहीं करती हैं। कोई कार्बनिक पदार्थ इस परत में नहीं पाया जाता है।

R क्षितिज यह अन्य सभी परतों के नीचे की अपरदन रहित चट्टान (बेडरॉक) परत है।

 

केशिका क्रिया

  • किसी संकीर्ण ट्यूब मे बिना किसी बाहरी बल के या गुरुत्वाकर्षण बल के किसी तरल का प्रवाह होना केशिका क्रिया कहलाती है।
  • केशिका क्रिया के पीछे का बल ,पृष्ठ तनाव है।

सतही / पृष्ठ तनाव

  • पृष्ठ-तनाव के कारण ही द्रव एक प्रकार की प्रत्यास्थता (एलास्टिक) का गुण प्रदर्शित करता है।
  • कुछ कीट जल की सतह पर ‘चल’ पाते हैं। इसका कारण पृष्ठ-तनाव ही है। जैसे पानी के कीड़े।
  • सतह तनाव किसी वस्तु को पानी पर तैरने के लिए आवश्यक उत्प्लावक बल प्रदान करता है जिससे वस्तुएं पानी पर तैर पाती है जैसे पानी के जहाज

मृदा लवणीकरण

मिट्टी की लवणता मिट्टी में लवण की मात्रा को संदर्भित करती है और इसका पता, मिट्टी के घोल की विद्युत चालकता (ईसी) को मापने से  लगाया जा सकता है।

लवणीकरण के तहत, मिट्टी की ऊपरी परत में लवण की सांद्रता की वृद्धि होती है और ज्यादातर मामलों में यह पानी की आपूर्ति में घुलित लवण के कारण होता है।

मृदा लवणता को प्रभावित करने वाले कारक

  • सिंचाई योग्य जल की गुणवत्ता – सिंचाई के पानी में घुलित लवणों की कुल मात्रा और उनकी संरचना, मिट्टी की लवणता को प्रभावित करती है। इसलिए, स्रोत जल की विद्युत चालकता और इसकी खनिज सामग्री जैसे विभिन्न मापदंडों का परीक्षण किया जाना चाहिए।
  • घुले हुए उर्वरक – मिट्टी मे घुले हुए उर्वरकों का प्रकार और मात्रा, इसकी लवणता को प्रभावित करती है। कुछ उर्वरकों में संभावित हानिकारक लवणों का उच्च स्तर होता है, जैसे पोटेशियम क्लोराइड या अमोनियम सल्फेट। उर्वरकों के अति उपयोग और दुरुपयोग से लवणता बढ़ती है, और इससे बचा जाना चाहिए।
  • सिंचाई और सिंचाई प्रणाली के प्रकार – जब पानी की मात्रा अधिक होती है, मिट्टी की लवणता कम होती है। जब मिट्टी सूख जाती है, तो मिट्टी के घोल में लवण की सांद्रता बढ़ जाती है।

लवणीकरण का प्रभाव

  • लवणता प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से कई तरीकों से पौधों के विकास को प्रभावित करती है:
    • पानी ग्रहण करने की क्षमता मे कमी
    • आयन-विशिष्ट विषाक्तता
    • आवश्यक पोषक तत्वों की ग्रहण क्षमता पर प्रभाव।
  • मिट्टी की उर्वरता कम हो जाती है
  • अतिरिक्त लवणता जगह जगह पर खड़ी फसल, असमान, अवरुद्ध विकास और खराब फसल का कारण बनती है।
  • आवास और सड़क निर्माण में कठिनाई उत्पन्न होती है।

नियंत्रण के उपाय

  • अत्यधिक पानी की जलनिकासी: जल निकासी मृदा की लवणता को नियंत्रित करने की प्राथमिक विधि है।
  • नहरों पर सीमाएं: नहरों के रिसाव से भूजल स्तर बढ़ सकता है, जिसके परिणामस्वरूप मिट्टी की लवणता और जलभराव हो सकता है। नहरों आस पास की भूमि मे जल का रिसाव नहरों के पास कंक्रीट, रबर, प्लास्टिक आदि की सीमा बनाकर कम किया जा सकता है।
  • सिंचाई आवृत्ति में वृद्धि: अधिक सिंचाई से भूमि मे अधिक नमी होगी जिससे भूमि पर लवण की सांद्रता मे कमी होगी।
  • चूने और जिप्सम के साथ मिट्टी का उपचार: सोडियम पदार्थ को कम करने के लिए जिप्सम जैसे घुलनशील कैल्सियम का प्रयोग किया जाना चाहिए।
  • खेतों में बाढ़ से लवण को दूर करना: कभी-कभी सतह की लवणीय मृदा को धोने के लिए लवणयुक्त खेतो मे बाढ़ का उपयोग किया जाता है।

भारत के प्रमुख मृदा समूह

भारत में उच्चावच विशेषता, भू आकृति, जलवायु क्षेत्र और वनस्पति के विभिन्न प्रकार हैं। इनसे भारत में विभिन्न प्रकार की मिट्टी के विकास में मदद मिली है।

  • प्रायद्वीपीय भारत की मिट्टी, चट्टानों के स्वस्थानी अपरदन के होने से बनती है । इस प्रकार, उन्हें  गतिहीन मिट्टी कहा जाता है।
  • भारत-गंगा-ब्रह्मपुत्र के मैदानों की मिट्टी नदियों और हवा के निक्षेपण कार्य के कारण बनती है। ये बहुत गहरी होती हैं। इन्हें अक्सर गतिशील मिट्टी कहा जाता है।

 

मिट्टी का वर्गीकरण
  1. प्राचीन काल में, मिट्टी को दो प्राथमिक समूहों में चिह्नित किया जाता था:
    • उर्वर (उपजाऊ)
    • ऊसर (बंजर)
  1. मिट्टी की बनावट, रंग, भूमि ढलान और नमी सहित उसकी अंतर्निहित विशेषताओं और बाहरी विशेषताओं के आधार पर ,बनावट के आधार पर, प्राथमिक मिट्टी प्रकारों की पहचान रेतीले, चिकनी, गाद और दोमट आदि के रूप में की गई थी।
  • रेतीली मिट्टी: इसमें अपक्षय चट्टान के छोटे कण होते हैं। रेतीली मिट्टी पौधों को उगाने के लिए सबसे खराब प्रकार की मिट्टी में से एक है क्योंकि इसमें बहुत कम पोषक तत्व होते है और पानी रोकने की क्षमता भी कम होती है, जिससे पौधे की जड़ों के लिए पानी को अवशोषित करना मुश्किल हो जाता है । इस प्रकार की मिट्टी जल निकासी व्यवस्था के लिए बहुत अच्छी है।
  • गाद मिट्टी: गाद में रेतीली मिट्टी की तुलना में बहुत छोटे कण होते है। यह चट्टान और अन्य खनिज कणों से बनी होती है जो रेत से छोटे और चिकनी मिट्टी के कणो से बड़े होते हैं। यह चिकनी और काफी अच्छी गुणवत्ता की मिट्टी है जिसकी पानी को रोकने की क्षमता रेतीली मिट्टी से कम होती है।  गाद, जल धाराओं के द्वारा आसानी से प्रवाहित होती है, और यह मुख्य रूप से नदी, झील और अन्य जल निकायों के पास मिलती है।
  • चिकनी मिट्टी: चिकनी मिट्टी का कण अन्य दो प्रकार की मिट्टी मे सबसे छोटा कण है। इस मिट्टी में कण एक दूसरे से चिपके होते है जिनके बीच बहुत कम या ना के बराबर हवा होती है। इस मिट्टी में पानी के भंडारण के गुण बहुत अच्छे होते हैं और नमी और हवा के लिए इसमें प्रवेश करना मुश्किल हो जाता है। गीली होने पर यह चिपचिपी हो जाती है, लेकिन सूखने पर चिकनी होती है।  चिकनी मिट्टी सबसे घनी और भारी प्रकार की मिट्टी होती है।
  • दोमट मिट्टी: दोमट मिट्टी का चौथा प्रकार है। यह रेत, गाद और चिकनी मिट्टी का एक संयोजन है जिसमे प्रत्येक के लाभकारी गुण शामिल हैं। उदाहरण के लिए, इसमें नमी और पोषक तत्वों को बनाए रखने की क्षमता होती है; इसलिए, यह खेती के लिए अधिक उपयुक्त है। इस मिट्टी को कृषि मृदा के रूप में भी जाना जाता है क्योंकि इसमें तीनों प्रकार की मिट्टी के पदार्थों का संतुलन होता है, और इसमे ह्यूमस भी होता है।
    • रंग के आधार पर, ये लाल, पीली , काली आदि होती है।
  1. शुरुआत, रंग, रचना और स्थान के आधार पर, भारत की मिट्टी को निम्न रूपों में व्यवस्थित किया गया है:
    • जलोढ़ मिट्टी
    • काली मिट्टी
    • लाल और पीली मिट्टी
    • लेटराइट मिट्टी
    • लवणीय मिट्टी
    • वन मिट्टी
    • शुष्क मिट्टी
    • पीट मिट्टी

जलोढ़ मिट्टी

  • भारत-गंगा-ब्रह्मपुत्र नदियों द्वारा जमा गाद के कारण जलोढ़ मिट्टी बनती है।
  • जलोढ़ मिट्टी उत्तरी मैदानी इलाकों और पंजाब, हरियाणा, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, बिहार और पश्चिम बंगाल की नदी घाटियों में फैली हैं । राजस्थान में एक सँकरे मार्ग के माध्यम से, यह गुजरात के मैदानी इलाकों में फैली हुई हैं। प्रायद्वीपीय क्षेत्र में, यह पूर्वी तट के डेल्टा और नदी घाटियों में पायी जाती हैं।
  • तटीय क्षेत्रों में कुछ जलोढ़ जमाव लहर क्रिया के कारण भी बनते हैं।
  • यह भारत के कुल क्षेत्रफल के लगभग 40% को आच्छादित करने वाला सबसे बड़ा मृदा समूह हैं।
  • सतलुज गंगा मैदान → सबसे बड़ा फैलाव
  • यह महानदी, गोदावरी, कृष्ण और कावेरी के डेल्टा में भी मिलती हैं, जहां इसे तटीय जलोढ़ कहा जाता है।
  • गहरी उपजाऊ नदी मिट्टी → परिवहन/गतिशील प्रकार
  • मूल चट्टान की विशेषताएँ कम होती है।
  • पोटाश की मात्रा अधिक होती है जबकि नाइट्रोजन और ह्यूमस अपर्याप्त होते है।
  • यह गेहूं, चावल, मक्का, गन्ना, दलहन, तिलहन, फल और सब्जियां, फलीदार फसलों जैसी रबी और खरीफ दोनों फसलों के लिए अच्छी है ।
  • डेल्टा क्षेत्रों में, यह जूट की खेती के लिए आदर्श मिट्टी होती हैं।
  • जलोढ़ मिट्टी को खादर और बांगर में बांटा जा सकता है।
  • खादर: वह क्षेत्र जहाँ बाढ़ का पानी आता है और वो पानी नई मिट्टी बहाकर लाती है उसे खादर जलोढ़ मिट्टी कहते हैं। यह उपजाऊ होती है।
  • बांगर भूमि के उस उच्च भाग को कहा जाता है जहां बाढ का पानी नही पहुंच पाता है। इसमे चूना कंकड़ पाए जाते है। यह पुरानी जलोढ होने के कारण नवीन जालोढ की तुलना में कम उर्वर होती है।
  • कुछ क्षेत्रों में, इस मिट्टी को हवा जनित अनुत्पादक मिट्टी द्वारा ढक दिया जाता है जिसे लोएस कहा जाता है ।

काली मृदा

  • काली मृदाएं, काली सतह वाली खनिज मृदाएं होती हैं जिनमें ऑर्गेनिक कार्बन होता है।
  • एक सामान्य काली मिट्टी अधिक क्ले वाली, 62 प्रतिशत या अधिक [भूविज्ञान (चट्टानों या तलछट की) मिट्टी से युक्त होती है।
  • अधिकांश काली मिट्टी की मूल सामग्री ज्वालामुखी चट्टानें होती हैं जो दक्कन के पठार (डेक्कन और राजमहल ट्रैप) में निर्मित हुई थी।
  • तमिलनाडु में नीस और सिष्ट इसकी मूल सामग्री हैं। जिसमें नीस गहरी एवं सिष्ट उथली होती हैं।
  • यह उच्च तापमान एवं कम वर्षा वाले क्षेत्रों में विकसित होती हैं। इसीलिए प्रायद्वीपीय क्षेत्र में शुष्क मृदा पाई जाती है।
  • इसे काली कपास मृदा एवं रेगुर मृदा भी कहा जाता है।
  • इस मिट्टी का काला रंग टाइटैनिक मैग्नेटाइट या लोहे और पैतृक चट्टान में काले घटकों की उपस्थिति के कारण होता है।
  • यह चूने और लोहे, मैग्नेशिया और एल्यूमिना से समृद्ध होती है और इसमें पोटाश भी होता है।
  • सामान्य तौर पर, उप्र की काली मिट्टी कम उर्वरता वाली होती है, जबकि घाटियों की काली मिट्टी काफी उपजाऊ होती है।
  • गीली होने पर यह मिट्टी चिपचिपी होने के साथ फूल जाती है और सूखने पर इसमें गहरी दरारें बन जाती हैं। जिससे इसमें वायु का संचार होता है जो वातावरण से नाइट्रोजन के अवशोषण में सहायक है। इस प्रकार इसमें स्वता जुताई हो जाती है।
  • वायु के इस प्रवाह एवं ऑक्सीकरण से इस मृदा की उर्वरता बनी रहती है। यह उर्वरता ,कम वर्षा वाले क्षेत्रों में बिना सिंचाई के कपास की फसल हेतु उपयुक्त है।
  • इसमें मिट्टी का रंग गहरा काला, मध्यम काला, लाल और काले रंग का मिश्रण जैसा होता है।
  • यह मिट्टी का अवशिष्ट प्रकार है।
  • इसमें फास्फोरस, नाइट्रोजन एवं ऑर्गेनिक पदार्थ अपर्याप्त मात्रा में पाए जाते हैं।
  • यह मृण्मय एवं अपारगम्य होती है ।
  • शुष्क ऋतु में वाष्पोत्सर्जन के कारण इसमें दरारे पड़ जाती हैं जो बीजों के पेनिट्रेशन के लिए अनुकूल होती है।
  • ये मिट्टी अत्यधिक उत्पादक होती हैं और यह कपास, दाल, बाजरा, अलसी, तम्बाकू, गन्ना, सब्जियों और खट्टे फलों की खेती के लिए उपयुक्त हैं।
  • क्षेत्रमहाराष्ट्र, गुजरात, मध्य प्रदेश, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु के कुछ हिस्से।
  • यह देश के कुल भूमि क्षेत्र का6 % हैं।

लाल मृदा

  • यह आग्नेय (क्रिस्टलीय) एवं मेटामॉर्फिक चट्टानों के अपक्षय द्वारा निर्मित होती हैं।
  • यह जलोढ़ और काली मिट्टी की तुलना में कम उपजाऊ होती है।
  • इसकी जल धारण क्षमता कम होती है।
  • जब चूना पत्थर, ग्रेनाइट, नीस और क्वार्टजाइट का क्षरण होता है तो चट्टानों के भीतर की मिट्टी गैर-घुलनशील सामग्री के अन्य रूपों में बनी रहती है।
  • ऑक्सीकरण की स्थिति में, मिट्टी में जंग या लोहे के ऑक्साइड का विकास होता है, जिससे मिट्टी लाल रंग की हो जाती है।
  • लोहे के ऑक्साइड के उच्च प्रतिशत के बजाय अधिक डिफ्यूजन के कारण इसका ऐसा रंग होता है।
  • अधिकांशतः यह मृदाएं कम वर्षा वाले क्षेत्रों में पाई जाती हैं।
  • हाइड्रेटेड रूप में यह पीली दिखती है ।
  • इस मिट्टी में अधिक लीचिंग का खतरा बना रहता है।
  • यह वायुवीय (airy)होती हैं जिनमें कृषि कार्य हेतु सिंचाई काफी महत्वपूर्ण होती है।
  • इनमें नाइट्रोजन, चूना, मैग्नेशिया, ह्यूमस और फॉस्फेट अपर्याप्त मात्रा में पाया जाता है।
  • यह मृदा पोटाश में समृद्ध होती हैं और सिंचाई तथा उर्वरकों द्वारा यह और भी उपजाऊ हो जाती हैं।
  • यह प्रकृति में पारगम्य, होती है।
  • क्षेत्र: दक्कन पठार का परिधि क्षेत्र अर्थात छोटानागपुर पठार, तेलंगाना, नीलगिरी, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश; और लगभग पूरा तमिलनाडु ।
  • यह बाजरा, दाल, अलसी, तंबाकू आदि की खेती के लिए उपयुक्त है।
  • लाल मिट्टी अपने छोटे समूहों के साथ भारत का सबसे बड़ा मिट्टी समूह है।

लैटेराइट मृदा

  • यह उच्च तापमान एवं भारी वर्षा वाले क्षेत्रों में विकसित होती हैं जहां एक निश्चित अंतराल के बाद नम एवं शुष्क ऋतु होती है। यह अपक्षय के अंतिम उत्पाद के रूप में विकसित होती हैं।
  • लेटराइट मृदा उच्च वर्षा (>200cm) एवं तीव्र अपक्षय वाले क्षेत्रों में पाई जाती हैं।
  • लीचिंग के कारण यह मृदा अम्लीय होती है। कृषि हेतु उपयुक्त बनाने के लिए इस मृदा में उर्वरक एवं कंपोस्ट की आवश्यकता होती है।
  • यह मिट्टी ,अपघटन (decomposition) का अंतिम उत्पाद होती है और यह कम उपजाऊ होती हैं।
  • इस मृदा में पाया जाने वाला ह्यूमस पदार्थ इसमें पाए जाने वाले माइक्रोव द्वारा हटा दिया जाता है जो उच्च तापमान में अच्छी तरह से विकसित होते हैं।
  • शुष्क होने पर यह कठोर हो जाती हैं।
  • लेटेराइट मिट्टी लाल बालू और लाल बजरी की अधिकता के कारण रंग में लाल होती है।
  • बारिश के साथ, लाइम और सिलिका बह जाते हैं और अघुलनशील लोहा और एल्यूमीनियम यौगिक शेष बच जाते हैं। → Desilication
  • यह अविशिष्ट प्रकार की मृदा है जो उच्च वर्षा वाले क्षेत्रों में लीचिंग के द्वारा निर्मित होती है।
  • यह मुख्य रूप से उच्च भूमि एवं पठारी क्षेत्रों में पाई जाती है जहां पर्याप्त वर्षा होती है।
  • यह चाय, रबड़, कॉफी और काजू जैसी वृक्षारोपण फसलों को छोड़कर खेती के लिए उपयोगी नहीं है
  • इसका उपयोग निर्माण सामग्री के रूप में और ईंट बनाने में किया जाता है
  • इसमें चूना, नाइट्रोजन, मैग्नीशियम और ह्यूमस की कमी होती है जबकि इसमें आयरन और एलुमिना उचित मात्रा में पाया जाता है।
  • कभी-कभी, फॉस्फेट की मात्रा लोहे के फॉस्फेट की तरह अधिक हो सकती है।
  • नम स्थानों में इसमें ह्यूमस की मात्रा अधिक हो सकती है।
  • क्षेत्र → मेघालय, कर्नाटक, केरल, तमिलनाडु, असम के पहाड़ी क्षेत्र, राजमहल पहाड़ियाँ और छोटानागपुर पठार
  • यह देश की कुल भूमि क्षेत्र के2 % में विस्तृत है।

लवणीय / क्षारीय मृदा

  • यह मिट्टी जल के  निक्षालन वाले शुष्क या अर्ध-शुष्क क्षेत्रों में मिलती हैं।
  • खराब जल निकासी और उच्च वाष्पीकरण एवं शुष्क होने के कारण यह अत्यधिक खारी होती है।
  • यह मिट्टी उपजाऊ नहीं होती है और इसमें वनस्पतियों का विकास ठीक से नहीं होता है।
  • इन्हें उसर मिट्टी के नाम से भी जाना जाता है। क्षारीय मिट्टी के लिए विभिन्न स्थानों पर रेह, कल्लर और चोपन, राकर, थुर, कार्ल आदि नाम से जाना जाता है।
  • यह बिहार, राजस्थान, यूपी, पंजाब, हरियाणा, महाराष्ट् में मिलती है।
  • शुष्क परिस्थितियों में अत्यधिक सिंचाई करने से केशिकात्व प्रक्रिया द्वारा भी मिट्टी की क्षारीयता में वृद्धि होती है।
  • कच्छ के रण में, दक्षिण-पश्चिम मानसून के द्वारा आने वाले नमक के कण भूमि की सतह पर इकट्ठे हो जाते हैं ।
  • तटीय क्षेत्रों में ऊंचे ज्वार के समय खारा पानी जमीन पर आ जाने के कारण इस मिट्टी का निर्माण होता है। इसके अलावा, डेल्टा क्षेत्र में पानी का जमाव हो जाने से क्षारीय मिट्टी का निर्माण होता है।
  • अधिक सिंचाई (नहर सिंचाई / भूजल उपयोग) और उच्च जल स्तर वाले (महाराष्ट्र और तमिलनाडु के तटीय क्षेत्रों में) क्षेत्रों में भी लवणता वाली मिट्टी होती है। सिंचाई के माध्यम से धीरे धीरे लवणता में वृद्धि होती रहती है क्योंकि जब जल भूमि पर आता है, चाहे वह वर्षा का ही जल हो, तब पौधे जल का अवशोषण कर लेते हैं लेकिन इसमें शामिल लवण मृदा पर ही शेष रह जाते हैं जिससे धीरे-धीरे लवणता में वृद्धि होती रहती है।
  • इसके साथ साथ शुष्क क्षेत्रों में अत्यधिक सिंचाई के कारण केशिका क्रिया द्वारा मिट्टी के लवण उसकी ऊपरी सतह पर आकर एकत्रित हो जाते हैं।
  • इसका संगठन रेतीले से दोमट तक होता है।
  • केशिका क्रिया द्वारा भूमि के अंदर पाए जाने वाले लवण भूमि की सतह पर एकत्रित हो जाते हैं।

शुष्क मिट्टी (Arid Soil)

  • शुष्क मिट्टी में ऐओलियन रेत (90 से 95 प्रतिशत) और मिट्टी (5 से 10 प्रतिशत) होती है
  • यह मिट्टी <50 सेमी वर्षा वाले क्षेत्रों में पाई जाती है।
  • यह सैंडी (Sandy), पारगम्य, और लवण में समृद्ध होती है।
  • आमतौर पर उच्च वाष्पीकरण के कारण यह खारी हो जाती है।
  • आम तौर पर इसमें कार्बनिक पदार्थों की कमी होती है।
  • कुछ शुष्क मिट्टी कैल्शियम कार्बोनेट जैसे घुलनशील लवणों के बदलते स्तर के साथ क्षारीय होती है।
  • इसमें कैल्शियम की मात्रा नीचे की तरफ बढ़ती है और सबसॉइल (subsoil) में कई गुना अधिक कैल्शियम होता है।
  • इस मिट्टी में फॉस्फेट की मात्रा सामान्य जलोढ़ मिट्टी की तुलना में अधिक होती है।
  • सामान्यता इसमें नाइट्रोजन शुरू में कम होती है लेकिन यह नाइट्रेट्स के रूप में उपलब्ध रहती है।
  • यह मोटे भूरे रंग के आवरण के साथ कवर रहती है जिससे मिट्टी का विकास अवरूद्ध होता है।
  • यह सतही चट्टान के यांत्रिक रूप से टूटने एवं हवा के निक्षेप द्वारा निर्मित होती है।
  • इसमें पौधे बहुत दूर-दूर पर होते हैं।
  • इसमें रासायनिक अपक्षय सीमित होता है।
  • इस मिट्टी में नीचे की ओर बढ़ने पर कैल्शियम की मात्रा बढ़ने के कारण ’कंकर’ की परतें मिलती है।  निचली परत में कंकर की सतह होने के कारण पानी का प्रवाह अवरुद्ध हो जाता है जिससे सिंचाई के द्वारा पौधों के विकास हेतु अधिक समय तक नमी को बनाए रखा जा सकता है।
  • निम्न वर्षा एवं उच्च तापमान इस मिट्टी के विकास हेतु उपयुक्त दशाएं हैं।
  • यह मिट्टी मुख्यता दक्षिण पश्चिमी हरियाणा एवं पंजाब और पश्चिमी राजस्थान में मिलती हैं।
  • यह उपजाऊ तो होती हैं लेकिन जल की उपलब्धता उर्वरता को सीमित करने वाला कारक है।
  • इस मृदा में उगाई जाने वाली प्रमुख फसलें ज्वार, बाजरा, रागी और तेल के बीज हैं जो सूखा प्रतिरोध फसलें हैं।
  • देश के कुल भूमि क्षेत्र के9% हिस्से में यह विस्तृत है।

पर्वतीय मृदा (Mountain Soils)

  • ये पर्वतों पर पाई जाने वाली मृदा होती है। और यह पृथ्वी पर पाई जाने वाली किसी भी मृदा के प्रकार की हो सकती हैं। ऊंचाई बढ़ने के कारण जलवायु दशाओं में होने वाले परिवर्तन के कारण इस मृदा में भी परिवर्तन देखने को मिलता है।
  • इस मृदा में मृदा परिच्छेदिका पूर्ण रूप से विकसित नहीं होती है और यह घाटियों एवं हिमालय के ढालो पर मिलती है ।
  • हिमालय के बर्फीले क्षेत्रों में, यह मिट्टी ह्युमस की कमी के साथ अम्लीय होती है। क्योंकि अधिक ऊंचाई पर वनस्पतियों का अभाव होता है। इसके अतिरिक्त, ये मिट्टी भूस्खलन और बर्फबारी के कारण अपक्षयित हो जाती है।
  • नीचे घाटियों में पाई जाने वाली मृदा उपजाऊ होने के साथ-साथ कार्बनिक पदार्थों में समृद्ध होती है।
  • अधिक ऊंचाई एवं ढाल के कारण वर्षा एवं अन्य कारणों से मृदा का क्षरण होता है।
  • इसमें पीट, meadow और पहाड़ी वन मिट्टी शामिल होती है।
  • यह ह्युमस में समृद्ध होती है लेकिन इसमें पोटाश, फास्फोरस एवं चूने की कमी होती है।
  • चाय, कॉफी, मसाले और उष्णकटिबंधीय फलों के लिए यह उपयोग होती है।
  • क्षेत्र: जम्मू और कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तरांचल, असम, सिक्किम, अरुणाचल प्रदेश।

पीट / कार्बनिक मिट्टी (Peaty / Organic Soil)

  • ये दलदली मिट्टी हैं और जल जमाव और अवायवीय स्थितियों (जो कार्बनिक पदार्थों के आंशिक विघटन को बढ़ावा देती हैं) के द्वारा निर्मित होती हैं।
  • ये उच्च वर्षा + उच्च आर्द्रता वाले क्षेत्रों में पाई जाती है।
  • यह केरल के कोट्टायम और अलाप्पुझा जिलों में पाई जाती है जहाँ इसे कारी कहा जाता है
  • यह ओडिशा और तमिलनाडु के तटीय इलाकों में, पश्चिम बंगाल के सुंदरबन , बिहार और उत्तराखंड के अल्मोड़ा जिले में भी मिलती है।
  • यह ह्यूमस एवं कार्बनिक पदार्थों से समृद्ध होती है
  • ये मिट्टी आमतौर पर प्रकृति में अम्लीय होती हैं। लेकिन कई स्थानों पर, ये क्षारीय भी होती हैं।
  • ये आमतौर पर बारिश के मौसम के दौरान जलमग्न हो जाती है जिससे यह धान की खेती के लिए उपयुक्त होती है।

मृदा क्षरण (Soil Erosion) 

जल और वायु द्वारा मृदा की उर्वरक परत का अपरदन होना मृदा क्षरण कहलाता है।

  • मृदा क्षरण के कारण
  • अधिक चराई
  • वनों की कटाई
  • हवा, पानी, ग्लेशियर, आदि
  • स्थलाकृति अर्थात तीव्र ढाल एवं उच्च वर्षण
  • कृषि कार्यों की गलत विधियां – अति सिंचाई, झूम कृषि आदि।
  • अन्य मानव निर्मित कारक जैसे खनन, औद्योगिक गतिविधियां इत्यादि।
  • मृदा क्षरण के प्रभाव
  • ऊपरी उपजाऊ भूमि का अपरदन होना
  • भूमिगत जल स्तर एवं मृदा की नमी में कमी आना
  • शुष्क भूमि का विस्तार एवं वनस्पतियों का सूख जाना
  • बाढ़ एवं सूखा की आवृत्ति में वृद्धि
  • नदियों एवं कैनालों की सिल्टिंग
  • भूस्खलन में वृद्धि

 

भारत में मृदा क्षरण के क्षेत्र

                       

प्रमुख क्षेत्र कटाव का कारण
  •          राजस्थान और दक्षिण पंजाब के शुष्क क्षेत्र
  •         दक्षिण भारत की नीलगिरी पहाड़ियाँ
  •          हिमालय का सिवालिकंग
  •          उत्तर पूर्वी क्षेत्र
  •          शुष्क क्षेत्रों के नदी तट
  •          पवन क्रिया
  •         खड़ी ढलान, भारी वर्षा और खेती के दोषपूर्ण तरीके।
  •          वनस्पति का विनाश और मलबे का बयान।
  •         भारी बारिश, बाढ़ और व्यापक बैंक कटौती
  •         खड्डों में तब्दील।

 

मृदा क्षरण को रोकने के उपाय

 

टेरेस फार्मिंग (Terrace Farming)

  • इसमें सीढ़ीदार खेत बनाकर मिट्टी के कटाव को रोका जाता है।
  • इसमें कृषि कार्य सीढ़ीदार खेतों एवं जल की सहायता से किया जाता है।
  • इसमें जल तीव्रता से निकाला जा सकता है।

समोच्च जुताई (Contour ploughing)

  • भूमि की खड़ी जुताई (ploughed up & down) से भूमि का कटाव बढ़ता है।
  • तिरछी जुताई होने से जल के साथ मिट्टी बह जाती है।
  • समोच्चय से मृदा का कटाव रुकता है और इससे धीरे-धीरे जल मिट्टी में प्रवेश करता है।
  • इसके अतिरिक्त यह निलंबित मिट्टी के कणों को हटा देती है।

वनरोपण

  • मिट्टी के कटाव को रोकने के लिए खेतों के किनारे, बंजर भूमि पर पेड़ लगाना
  • इसके अतिरिक्त पानी को बनाए रखने के लिए मिट्टी की क्षमता में वृद्धि करना ।

शेल्टर पट्टी

  • खराब मौसम से सुरक्षा के लिए एक क्षेत्र, विशेष रूप से फसलों के क्षेत्र को सुनिश्चित करने के लिए लगाए गए पेड़ों या झाड़ियों की एक पंक्ति
  • हवा से होने वाले कटाव को रोकने ‌के लिए किसान कुछ पंक्तिबद्ध पेड़ लगाते हैं
  • इन्हें विंडब्रेक्स के नाम से भी जाना जाता है।

आच्छादित फसल / नियमित आवर्तन सल

  • अच्छादित फसलें जैसे फलियां(legumes), सफेद शलजम, मूली और अन्य प्रजातियों को मिट्टी वर्ष-दौर को अच्छादित करने के लिए नकदी फसलों के साथ उगाया जाता है । दलहन शलजम मूली जैसी फसलों वाले खेतों में चक्रण एक अहम भूमिका निभाता है।
  • जो हरी खाद के रूप मे नाइट्रोजन और अन्य बुनियादी पोषक तत्वो को पूरा करता है
  • साथ ही खरपतवारों को गलाने और मिट्टी की उर्वरता बढ़ाने में मदद करते हैं

जुताई रहित कृषि

  • इसे “जीरो टिलेज”(zero tillage)डायरेक्ट पेनिट्रेटिंग(direct penetrating) भी कहा जाता है
  • जुताई के माध्यम से मिट्टी को बदलें बिना वर्ष-दर-वर्ष फसलों या चारागाह उगाने की एक विधि
  • मिट्टी के कटाव के बिना, मिट्टी में यह पानी की मात्रा को बढ़ाता है।
  • साथ ही मिट्टी में कार्बनिक पदार्थ प्रतिधारण और पूरक आहार का निर्माण करता है
  • हवा और पानी के संपर्क में आने वाली जमीन की मिट्टी को बांध कर रखता है,।

पट्टीदार खेती(Strip Cropping)

  • हवाओं के प्रभाव को रोकने के लिए भूमि के वैकल्पिक स्ट्रिप्स (पाट्टीदार खेत) में फसलें उगाई जाती हैं।
  • इसका उपयोग तब किया जाता है जब एनीनक्लाइन जरूरत से ज्यादा खड़ी होती है या जब मिट्टी के कटाव को रोकने की कोई वैकल्पिक तकनीक नहीं होती है।
  • परीरेखा ट्टीदार खेती (Contour strip cropping) → फसलों के कटाव के साथ बारी-बारी से स्ट्रिप्स(पट्टी) में फसलों को सुनिश्चित करने वाली मिट्टी में खेती। स्ट्रिप्स(पट्टी) ढलान के नीचे होना चाहिए।
  • पाटीदार क्षेत्र में खेती → पौधों की खेती ढलानों के समानांतर स्ट्रिप्स(पट्टी) में की जाती है

घासपात से ढकना(Mulching)

  • मल्च, (Mulches)नमी को बनाए रखने और मिट्टी की स्थिति में सुधार करने के लिए मिट्टी की सतह पर डाली गई सामग्री होती हैं।
  • मिट्टी के ऊपर फैली हुई सामग्री की एक रक्षात्मक परत।
  • मल्च, या तो प्राकृतिक हो सकते हैं, जैसे घास कतरनों, भूसे, छाल , इत्यादि इसी तरह की सामग्री।
  • या अकार्बनिक, जैसे पत्थर, ईंट के टुकड़े, और प्लास्टिक आदि।