प्रायद्वीपीय भारत

प्रायद्वीपीय भारत

 

विषय-वस्तु

 

  1. विशेषताएं
  2.  पर्वतमालाएं/पर्वत-श्रृंखलाएं
    • अरावली पर्वतमाला
    • विंध्याचल पर्वतमाला
    • सतपुरा पर्वतमाला
    • पश्चिमी घाट या सयाद्री
      • उत्तरी भाग
      • मध्य भाग
      • दक्षिणी भाग
    • पूर्वी घाट
  3. पठार
    • मारवाड़ या मेवाड़ पठार
    • केंद्रीय/मध्यवर्ती उच्भूमि
    • बुंदेलखंड उच्चभूमि
    • मालवा पठार
    • बघेलखंड
    • छोटानागपुर पठार
    • मेघालय या शिलांग पठार
    • काठियावाड़  पठार
    • दक्कन का पठार
      • महाराष्ट्र पठार
      • कर्नाटका पठार
      • तेलंगाना पठार
    • छत्तीसगढ़ का समतल मैदान

समुद्र तट और तटवर्ती मैदान

  1. भारत के पश्चिमी तटवर्ती मैदान
  2.  भारत के पूर्वी तटवर्ती मैदान

 

 

विशेषताएं

 

  • प्रायद्वीपीय पठार भारत के सबसे पुराने एवं सबसे स्थिर भूभागों में से एक है, जो ज्यादातर प्राचीन नाइस (Gneiss) एवं ‘शिस्ट’ (schists) द्वारा निर्मित है।
  • यह मोटे तौर पर आकार में त्रिकोणीय है और उत्तर भारत के विस्तृत मैदान के दक्षिण में स्थित है। पठार का शीर्ष कन्याकुमारी में स्थित है।
  • यह हर तरफ से पहाड़ी श्रृंखलाओं से घिरा है:
    • उत्तर पश्चिम ( अरावली का विस्तार) =दिल्ली रिज
    • पूर्व = राजमहल पहाड़ियां
    • पश्चिम= गिर श्रृंखला
    • दक्षिण= इलायची पहाड़ियाँ (प्रायद्वीपीय पठार के बाहरी हिस्से का निर्माण करती है)
    • बाहरी हिस्सा = शिलांग और कर्बी एंगलॉग पठार
  • प्रायद्वीपीय पठार भारत के सबसे पुराने एवं सबसे स्थिर भूभागों में से एक है, जो ज्यादातर प्राचीन नाइस (Gneiss) एवं ‘शिस्ट’ (schists) द्वारा निर्मित है।
  • यह मोटे तौर पर आकार में त्रिकोणीय है और उत्तर भारत के विस्तृत मैदान के दक्षिण में स्थित है। पठार का शीर्ष कन्याकुमारी में स्थित है।
  • यह हर तरफ से पहाड़ी श्रृंखलाओं से घिरा है:
    • उत्तर पश्चिम ( अरावली का विस्तार) =दिल्ली रिज
    • पूर्व = राजमहल पहाड़ियां
    • पश्चिम= गिर श्रृंखला
    • दक्षिण= इलायची पहाड़ियाँ (प्रायद्वीपीय पठार के बाहरी हिस्से का निर्माण करती है)
    • बाहरी हिस्सा = शिलांग और कर्बी एंगलॉग पठार
  • प्रायद्वीपीय पठार में कई छोटे पठार एवं पहाड़ी श्रृंखलाएं हैं, जिनमें कई नदी द्रोणी और घाटी भी शामिल हैं।
  • इसमें कुल 16 लाख वर्ग किलोमीटर (भारत का कुल क्षेत्रफल 32 लाख वर्ग किलोमीटर) का क्षेत्रफल शामिल है।
  • पठार की औसत ऊंचाई समुद्र तल से 600 से 900 मीटर ( क्षेत्र के अनुसार भिन्न हो सकता है) है।
  • पठार की अधिकांश नदियां पश्चिम से पूर्व की ओर बहती है, जो पठार के सामान्य ढलान को दर्शाती है, जो पश्चिम से पूर्व की ओर है।
    • नर्मदा ताप्ती एक अपवाद है, जो एक भ्रंश (अपसारी सीमा के कारण) से होकर पूरब से पश्चिम की ओर बहती है।
  • कैंब्रियन कल्प से यह भूखंड एक कठोर खंड के रूप में खड़ा है। और कभी भी समुद्र के नीचे नहीं डूबा है, केवल कुछ स्थानों को छोड़कर जहां समुद्री अतिक्रमण किए गए हैं और वह भी स्थानीय स्तर पर और अस्थायी रूप से।

 

गारो-राजमहल भ्रंश (gap)
  • गारो और राजमहल पहाड़ियों के बीच जलोढ़ आवरण के कारण गारो-राजमहल सतपुड़ा की निरंतरता में एक भौतिक अंतर है।
  • ऐसा माना जाता है कि राजमहल पहाड़ियों और मेघालय पठार के बीच एक बहुत बड़ा भ्रंश पैदा हो गया था, जो हिमालय की उत्पत्ति के समय भारतीय प्लेट के उत्तर-पूर्व दिशा में खिसकने से उत्पन्न बल के कारण हुआ था।
  • बाद में यह कई नदियों की निक्षेपण गतिविधि से उत्पन्न अवसाद द्वारा भर गया जिसके परिणामस्वरूप मेघालय पठार मुख्य प्रायद्वीपीय ब्लॉक से अलग हो गया।

 

भूगर्भीय इतिहास और विशेषताएं

इसके स्थिर इतिहास के अलावा, प्रायद्वीप में कुछ बदलाव भी हुए हैं, जैसे:

  1. गोंडवाना कोयले का निर्माण
  2. नर्मदा-तापी भ्रंश घाटी का निर्माण
  3. दक्कन पठार पर बेसाल्ट लावा का विस्फोट
  1. गोंडवाना से टूटकर उत्तर की ओर अपनी यात्रा के दौरान भारतीय प्लेट एक भूगर्भिक हॉटस्पॉट, रियूनियन हॉटस्पॉट से होकर गुजरी, जिसके कारण भारतीय क्रेटों के नीचे एक व्यापक पिघलाव हुआ। पिघले हुए लावा क्रेटों के सतह के माध्यम से ऊपर की ओर आ गए और क्षेत्र में बेसाल्ट का विस्तार हुआ। इसे दक्कन ट्रैप के नाम से भी जाना जाता है।
  2. इस क्षेत्र में लावा के अपरदन के कारण काली मिट्टी पाई जाती है।

 

 पर्वत-मालाएं

  • प्रायद्वीपीय क्षेत्र की अधिकांश पहाड़ियां अवशिष्ट पहाड़ियां हैं।
  • यह लाखों साल पहले निर्मित पहाड़ियों एवं होर्स्टस ( उत्थान खंड) के अवशेष हैं।
  • ये पर्वत श्रृंखला एवं अन्य नदी-घाटियां, इन प्रायद्वीपीय पठारों को एक दूसरे से अलग करती हैं।

 

अरावली पर्वत-माला
  • यह अवशिष्ट पर्वत-माला, उत्तर पूर्व से दक्षिण पश्चिम की ओर फैला हुआ है।
  • अरावली की कुल लंबाई 1100 किलोमीटर है, जो दिल्ली से अहमदाबाद तक फैली हुई है।
  • यह दुनिया के सबसे प्राचीन वलित पर्वतों में से एक है और, भारत की सबसे प्राचीन  वलित पर्वत हैं।
    • आर्कियन काल (कई 100 मिलियन वर्ष पहले) में इसके निर्माण के बाद, इसके शिखर हिमनद से ढके हुए थे, और शायद आज के हिमालय से भी ऊँचे थे।
  • यह निरंतर हरिद्वार से गंगा के मैदानी क्षेत्र तक फैली हुई है।
  • यह श्रृंखला राजस्थान (अजमेर के दक्षिण में निरंतर फैली हुई है, जहां इसकी ऊंचाई 900 मीटर तक है) में उल्लेखनीय है, लेकिन अजमेर के बाद हरियाणा और दिल्ली में इस श्रृंखला में भिन्नता देखी जा सकती है।
  • केवल कुछ ही चोटियों की ऊंचाई 1000 मीटर से अधिक है। जिनमें शामिल हैं:- अबू पहाड़ियों पर स्थित गुरु शिखर इसकी सबसे ऊंची चोटी है। माउंट आबू एक प्रसिद्ध हिल स्टेशन है। जैनों का धार्मिक स्थल माउंट आबू पर स्थित है।
  • बनास, लूनी, साबरमती नदियों का उद्गम स्थल अरावली ही है।
    • बनास चंबल की सहायक नदी है।
    • लोनी एक अल्पायु नदी है, जो कच्छ के रण में लुप्त हो जाती है।
  • इनमें कुछ दर्रे भी पाए जाते हैं, खासकर उदयपुर और अजमेर के बीच, जैसे पीपली घाट, देवयर, देसूरी, इत्यादि।
  • इसमें कई झील भी स्थित हैं, जैसे सांभर झील(भारत में सबसे बड़ा अंतरिक खारे पानी का जल निकाय), ढेबर झील (अरावली के दक्षिण में), जयसमंद झील (जयसमंद वन्य जीव अभ्यारण) इत्यादि।

 

सतपुरा पर्वत-माला
  • सतपुरा पहाड़ियां विवर्तनिक पहाड़ियां हैं, जो वलन और संरचनात्मक उत्थापन (होर्स्टस स्थलाकृति) के फलस्वरूप निर्मित हुई हैं।
  • इनके चोटियों की ऊंचाई 4000 फीट (1200 मीटर) तक है, जिनमें उत्तर में महादेव पहाड़ियां, पूर्व में मैकाल श्रृंखला, पश्चिम में राजपिपला पहाड़ियां शामिल हैं।
  • सतपुरा पर्वत श्रृंखला एक ब्लॉक पर्वत है, जिसके उत्तर में नर्मदा घाटी और पश्चिम में तापी है।
  • यह 900 किलोमीटर तक फैला हुआ है।
  • महादेव पहाड़ियों (पचमढ़ी के पास) पर स्थित धूपगढ़ (1,350 m), सतपुरा पर्वत माला की सबसे ऊंची चोटी है।
  • अमरकंटक (1,127m) भी एक महत्वपूर्ण चोटी है जो मैकाल पर्वत श्रृंखला की सबसे ऊंची चोटी है। यह नर्मदा और सोन नदी का उद्गम स्थल भी है।
  • उल्लेखनीय है कि 3 नदियां मैकाल पहाड़ियों के तीन ओर से उत्पन्न होती है, लेकिन केवल 2 नदियां, नर्मदा और सोन की उत्पत्ति अमरकंटक से होती है ना कि महानदी की।
  • गोंडवाना चट्टानों की उपस्थिति के कारण यह पहाड़ियां बॉक्साइट से समृद्ध हैं।
  • सतपुड़ा श्रृंखला की नदियां कई झरने बनाती हैं।‘धुऑंधर’ जलप्रपात जो नर्मदा नदी द्वारा बनाया गया एक महत्वपूर्ण झरना है। यहां संगमरमर की चट्टानें भी पाई जाती हैं।

 

विंध्याचल पर्वत-श्रृंखला
  • यह श्रृंखला विंध्याचल, भांडेर, कैमूर और पारसनाथ पहाड़ियों का एक समूह है।
  • यह गैर विवर्तनिक पर्वत हैं, जो न केवल प्लेट की टक्कर के कारण बने हैं बल्कि नर्मदा रिफ्ट घाटी के दक्षिण की ओर नीचे खिसकने से भी बनते हैं।
  • यह गुजरात के भरूच से बिहार के सासाराम तक 1200 किलोमीटर से अधिक की दूरी तक विस्तृत है, और यह पूर्व-पश्चिम दिशा में नर्मदा घाटी के समानांतर फैला हुआ है।
  • विंध्याचल श्रृंखला की सामान्य ऊंचाई 300 से 650 मीटर के बीच है।
  • विंध्याचल श्रेणी के अधिकांश भाग प्राचीन काल की क्षैतिजरूप से संस्तरित अवसादी चट्टानों से बने हैं।
  • उन्हें पन्ना, कैमूर, रीवा, इत्यादि जैसे नामों से जाने जाते हैं।
  • यह श्रृंखला गंगा-प्रणाली और दक्षिण भारत की नदी प्रणालियों के बीच विभाजक के रूप में कार्य करती है।

 

पश्चिमी घाट(या सहयाद्रि)
  • पश्चिमी घाट की यह दूसरी सबसे बड़ी पर्वत श्रृंखला है, जो दक्कन पठार के पश्चिमी भाग का निर्माण करती है।
  • यह उत्तर में तापी नदी घाटी और दक्षिण में कन्याकुमारी के बीच 1600 किलोमीटर की दूरी तक फैला हुआ है।
  • यह सीढ़ीनुमा स्थलाकृति को दर्शाता है, जो क्षैतिज रूप से संस्तरित लावे के कारण अरब सागर के तट से लगा हुआ है।
  • पश्चिमी घाट की ऊंचाई पश्चिमी तट के मैदानी इलाकों से अचानक समुद्र तल से 1 किलो मीटर ऊची हो जाती है।
  • दक्कन पठार से उनके पूर्वी किनारे की ओर एक सौम्य ढाल है,जो पहाड़ों की एक लम्बी श्रृंखला प्रतीत नहीं होती है।
  • भूगर्भीय संरचना में अंतर के कारण मालाबार के दक्षिण में नीलगिरी, अन्नामलाई, आदि द्वारा एक अलग भूदृश्यों का निर्माण किया जाता है।

उत्तरी भाग/खंड

  • पश्चिम घाट का खंड महाराष्ट्र में स्थित है और इसे सहयाद्री के रूप में भी जाना जाता है।
  • सहयाद्री की औसतन ऊंचाई समुद्र तल से लगभग 1200 मीटर ऊंची है।
  • सहयाद्री ज्वालामुखीय आग्नेय चट्टानों (दक्कन लावा या दक्कन ट्रैप) से बने हैं। इसलिए यह पश्चिम घाट के अन्य क्षेत्रों की चट्टानों की तुलना में भौगोलिक रूप से नए हैं।
  • गोदावरी (नासिक), भीमा (भीमाशंकर) और कृष्णा (महाबलेश्वर) इस खंड की मुख्य नदियां हैं।
  • सहयाद्री की कुछ मुख्य चोटियां हैं- कलसुबाई शिखर ( सहयाद्री की सबसे ऊंची चोटी), साल्हेर शिखर, हरिशचंद्रगड़ शिखर इत्यादि।
  • पश्चिमी घाट के अन्य भागों की तुलना में सहयाद्री से अधिक नदियां निकलती है, जो इसे दक्षिण भारत का एक महत्वपूर्ण जलस्रोत बनाती है।
  • इस भाग के महत्वपूर्ण दर्रे हैं-
    • थाल घाट- यह नासिक को मुंबई से जोड़ता है।(कोलकाता से मुंबई जाने वाला मार्ग नासिक से होकर गुजरता है)
    • भोर घाट- यह मुंबई को पुणे से जोड़ता है।

मध्य भाग/खंड

  • यह खंड कर्नाटक एवं गोवा राज्यों से होते हुए नीलगिरी में खत्म हो जाता है जहां यह पूर्वी घाट से मिलता है।
  • नीलगिरी भ्रंशोत्थ/ब्लॉक पर्वत हैं, जो दो भ्रंश के बीच हैं, इसलिए इन्हे होर्स्ट स्थलाकृति भी कहा जाता है।
  • यह आग्नेय और कायांतरित चट्टाने के जैसे ग्रेनाइट और नाइस पत्थरों से बने होते हैं।
  • इनमें घने जंगल भी पाए जाते हैं तथा छोटी सरिताएं भी यहां से निकलती हैं। इनसे पहाड़ियों का क्षरण हुआ है और पर्वतमाला के बीच में कहीं कहीं भ्रंश (gaps) पैदा हो गए हैं।
  • इनकी औसत ऊंचाई लगभग 1200 मीटर है और कुछ प्रमुख चोटियों में वेवुलमाला, कुदरेमुख, पुष्पगिरी आदि मौजूद हैं।
  • बाबा बुदन पहाड़ियां कॉफ़ी बागानों के लिए प्रसिद्ध हैं।
    • इस खंड की प्रमुख नदियां तुंगभद्र और कावेरी (ब्रम्हगिरी) हैं।

दक्षिणी भाग/खंड

  • इस खंड में अन्नामलाई एवं कार्डमम पर्वत श्रृंखला शामिल हैं।
  • पलक्कड़ या पालघाट दर्रा पश्चिमी घाट का सबसे बड़ा (लगभग 24 किलोमीटर चौड़ा) दर्रा है जो नीलगिरी को अन्नामलाई पहाड़ियों से अलग करता है।
    • इसी दर्रे के माध्यम से दक्षिण पश्चिम मानसून के नमी वाले बादल मैसूर क्षेत्र में बारिश लाते हैं।
  • अनाइमुडी शिखर अन्नामलाई पहाड़ियों में स्थित प्रायद्वीपीय भारत की सबसे ऊंची चोटी है।
  • पालनी पहाड़ियां अन्नामलाई श्रेणी का हिस्सा हैं, जो धारवाड़ आग्नेय चट्टानों से बनी हैं।
    • कोडाईकनाल हिल स्टेशन पालनी पहाड़ियों में स्थित है।
    • पेरियार नदी अन्नामलाई पहाड़ियों के करीब से निकलती है और अरब सागर में मिल जाती है।
  • कार्डमम पहाड़ियां अन्नामलाई पहाड़ियों के दक्षिण में स्थित है, जो सेनकोत्तई दर्रे से विभाजित की जाती है। ये पहाड़ियां इलायची की खेती के लिए प्रसिद्ध है और इन्हें इलाईमलाई के नाम से भी जाना जाता है।
    • वरूषांड पहाड़ियां कार्डमम पहाड़ियों का हिस्सा हैं, जहां से वैगई नदी का उद्गम होता है।
  • पश्चिम घाट का सबसे दक्षिणी भाग अगस्तमलाई पहाड़ियां हैं, जो केरल और तमिलनाडु में स्थित हैं। प्रायद्वीपीय भारत का सबसे दक्षिणी शिखर अगस्तमलाई शिखर है।

 

पूर्वी घाट
  • पूर्वी घाट भारत के पूर्वी तट के लगभग समानांतर फैली हुई है, जिनके आधार और तट के बीच व्यापक मैदानी भाग मौजूद है।
  • पश्चिमी घाटों की तुलना में इनका  अत्यधिक क्षरण हुआ है, इसलिए ऊंचाई में यह उनसे कम हैं।
  • यह मुख्य रूप से आग्नेय और कायांतरित शैलों से बने हैं।
  • यह अत्यधिक विषम और विलगित पहाड़ियों की श्रेणी है, जो उड़ीसा में महानदी से शुरू होकर तमिलनाडु के वैगई में खत्म होती है।
  • इन पहाड़ियों में संरचनात्मक और भू आकृतियों की निरंतरता का अभाव है इसलिए इन्हें स्वतंत्र इकाइयों के रूप में जाना जाता है।
  • पूर्वी घाट के दक्षिणी भाग में केवल महानदी और गोदावरी के बीच ही स्पष्ट रूप से पहाड़ियों के अस्तित्व का पता चलता है।
  • यह श्रृंखला मधुगुला कोंडा श्रृंखला और नल्लमाला पहाड़ियों के बीच लगभग गायब सा प्रतीत होती है। यह क्षेत्र गोदावरी-कृष्णा डेल्टा से बना है।
  • कुछ प्रमुख पहाड़ियां
    • आंध्र प्रदेश = वेलीकोंडा पहाड़ी, पालकोण्डा पहाड़ी और शेषाचलम|
    • तमिलनाडु=जावडी पहाड़ी और शेवरॉय पहाड़ी
  • पूर्वी घाट का मिलन नीलगिरी में पश्चिमी घाट के साथ होता है।

 

PLATEAU

मारवाड़ या मेवाड़ पठार
  • यह पठार पूर्वी राजस्थान में स्थित है।(मारवाड़ का मैदानी इलाका अरावली के पश्चिम में है जबकि मारवाड़ पठार पूर्व में स्थित है)।
  • इसकी ऊंचाई समुद्र तल से 250 से 500 मीटर है और इसका ढाल पूर्व की ओर है।
  • इसमें विंध्याचल काल के बलुआ पत्थर, शिष्ट(shales) एवं चूना पत्थर मौजूद हैं।
  • बनास नदी के कारण यह उर्मिल भूमि में परिवर्तित हो गया हैं।

उर्मिल भूमियां मैदान की तरह से समतल नहीं होती हैं। इन स्थलाकृतियों में मामूली उतार-चढ़ाव देखे जा सकते हैं। उदाहरण- संयुक्त राज्य अमेरिका के घास के मैदान(prairies)।

 

मध्यवर्ती उच्चखंड
  • इसे मध्य भारत पठार भी कहा जाता है।
  • यह मेवाड़ के पूर्व में स्थित है।
  • यह एक पर्वतनुमा पठार है जिसमें विभिन्न ऊंचाई वाले बलुआ पत्थरों से निर्मित पहाड़ियां स्थित हैं।
  • यहां घने जंगल पाए जाते हैं।
  • इसके उत्तर में चंबल नदी के उत्खात भूमि पाए जाते हैं।
क्रमांक आधार पश्चिमी घाट पूर्वी घाट
1. ऊंचाई पश्चिमी घाट  की ऊंचाई 900 में 1600 मीटर है। पश्चिमी घाट की सबसे ऊंची चोटी अनाईमुडी है और इसकी ऊँचाई 2695 मीटर या 8842 फीट है। इसे दक्षिण भारत के एवरेस्ट के रूप में जाना जाता है। पश्चिमी घाट की तुलना में पूर्वी पाट ऊंचाई में कम है। इसकी ऊँचा। 900 से 1600 मीटर है। पूर्वी घाट की सबसे ऊँची चोटी जिदगा चोटी (1690 मीटर) है। इसे अग्मा कोडा या के रूप में भी जाना जाता है
2. ढलान पश्चिमी घाट में बहुत ही खड़ी ढलान है, क्योंकि उत्तर से दक्षिण जाने के बाद कंचाई बढ़ने लगती है। पूर्वी घाट में ढलान सामान्य है।
3. निरंतरता यह सात पर्वत श्रेणी है, जिन्हें सिर्फ दरों के द्वारा ही पार किया जा सकता है। यह सतत पर्वत श्रेणी नहीं है, और कई नदिया इनके बीच से काटती है।
4. नदियां पश्चिमी घाट भारत के पश्चिमी तट के समानांतर है, इनका विस्तार तापी घाटी में कन्याकुमारी के बीच है।  और यहां में अनेक नदियों जैसे, कृष्णा गोदावरी कावेरी का उद्गम हैं। इनका विस्तार महानदी की घाटी से लेकर दक्षिण में नीलगिरी तक है।इनके बीच से कई नदिया अपरदन करते हुए गुजरती है।
5. बनस्पतिया अधिक वर्षा के कारण यहां उज्यकरिबंधीय सदाबहार वनस्पति पाई जाती है। सीमित वर्षा के कारण यहां उष्णकटिबंधीय आई पतझड धनम्पति पाई जाती है।

 

बुंदेलखंड उच्चभूमि/भू-भाग
  • उत्तर में यमुना नदी, दक्षिण में मालवा का पठार, पूर्व और दक्षिण-पूर्व में विंध्याचल और पश्चिम में मध्य भारत का पठार।
  • यह, बुंदेलखंड, जो ग्रेनाइट और नाइस पत्थरों से बना है, का पुराना विच्छेदित भाग (गहरे घाटियों से विभाजित) है।
  • पठार की ऊंचाई 300 से 600 मीटर है।
  • इनकी जल निकास प्रणाली बंगाल की खाड़ी में है।
  • यह क्षेत्र खेती के लिए अयोग्य है, क्योंकि इस क्षेत्र में बहने वाली नदियों के अपरदन के कारण उर्मिल (लहरों जैसी सतह) क्षेत्र में बदल गया है।
  • बेतवा, धसान एवं केन जल धाराएं पठार से होकर बहती हैं।

 

मालवा का पठार
  • विंध्याचल पर्वत में बसा मालवा का पठार एक त्रिभुज आकृति का निर्माण करता है, जो पश्चिम में अरावली श्रृंखला, उत्तर में मध्य भारत पठार और पूर्व में बुंदेलखंड से घिरा हुआ है।
  • इस पठार में दो अपवाह तंत्र हैं
    • अरब सागर की तरफ ( नर्मदा, तापी और माही)
    • बंगाल की खाड़ी की तरफ (चंबल और बेतवा जिसमें यमुना भी आती है)
  • इसकी औसत ऊंचाई 500 मीटर है, जिसकी ढाल उत्तर की तरफ है।
  • भूवैज्ञानिक दृष्टिकोण से यह भारत के सबसे विभिन्न विभागों में से एक है, जिसमें धारवाड़ चट्टानें, विंध्याचल चट्टाने, गोंडवाना चट्टानें  और ज्वालामुखीय बेसाल्ट शामिल हैं।
  • यह लावा के व्यापक प्रवाह से बना है, जो काली मिट्टी से ढका हुआ है।
  • यह एक लहरदार पठार है जो नदियों द्वारा विच्छेदित किया जाता है।
  • यहां अर्ध-शुष्क से लेकर शुष्क प्रकार की जलवायु पाई जाती है। जहां कभी-कभी बारिश के कारण अस्थाई धाराएं निकलती रहती हैं। घनी वनस्पति के अनुपस्थिति के कारण ये धाराएं ऊपरी तल को हटा देती हैं, जिससे संकरी घाटियों का निर्माण होता है, जिसे अवनलिका (gullies) कहते हैं।
    • अवनलिकाओं के गहरे हो जाने पर, ये घाटियों का रूप ले लेती हैं।
    • अवनलिका अपरदन इन प्राकृतिक भूभाग को ऐसी भू-भागों में बदल देती है, जो कृषि के लिए अनुकूल नहीं होती है। चंबल अपवाह तंत्र इसी का एक उदाहरण है।

 

बघेलखंड
  • यह मैकाल पर्वत श्रृंखला के पूर्व में स्थित है, इसके पश्चिम में चूना पत्थर और बलुआ पत्थर पाए जाते हैं, वहीं पूर्व में ग्रेनाइट पाया जाता है।
  • इस पठार में धारवाड़ और गोंडवाना क्रम की चट्टाने पाई जाती हैं।
  • पठार का मध्य भाग उत्तर में सोन नदी-तंत्र एवं दक्षिण में महानदी नदी-तंत्र के बीच, एक जल विभाजक का काम करता है।
    • रिहन्द बांध और गोविंद बल्लभ पंत सागर बांध (भारत में सबसे बड़ी मानव-निर्मित झील) सोन नदी पर निर्मित है।
  • इस पठार की औसत ऊंचाई 150 से 1200 मीटर है। यहां विषम उच्चावच पाए जाते हैं।
  • इस भू-आकृति का मुख्य तत्व विंध्याचल और गंगा के मैदान और नर्मदा सोन घाटी के मध्य बलुआ पत्थर की मौजूदगी है।
  • यह भानेर और कैमूर के नजदीक स्थित हैं।
  • विभिन्न स्तरों की सामान्य क्षैतिजीय स्थिति यह दर्शाती है, कि इस क्षेत्र में ज्यादा परिवर्तन नहीं हुए हैं।

 

छोटा नागपुर पठार (CNP)
  • यह एक प्रायद्वीपीय पठार है जिसकी ऊंचाई समुद्र तल से 700 मीटर है।
  • यह झारखंड, उत्तरी छत्तीसगढ़, पश्चिम बंगाल के पुरुलिया जिले और उड़ीसा के भागों में फैला हुआ है।
  • इस पठार की सबसे महत्वपूर्ण संरचना दामोदर रिफ्ट घाटी है, जिसमें गोंडवाना पत्थर मौजूद है जो कोयले के अत्यधिक भंडार के रूप में भी जाना जाता है। जैसे, दामोदर घाटी कोयले का मैदान।
  • इस क्षेत्र में नरम और ठोस चट्टानों की परतें पाई जाती हैं, जिसके परिणामस्वरूप अंतर अपक्षय के कारण पेटलैंड जैसे भू-आकृति (नरम चट्टानों की परतों के क्षरण के कारण ठोस चट्टाने बच जाती हैं) का निर्माण होता है।
    • कई जगहों पर इनके विरुद्ध मॉनेडनॉक (एक पृथक पहाड़, जो अपरदन प्रतिरोधी और समप्राय मैदान के ऊपर होता है) द्वारा अवरोध पैदा किया जाता है।
  • तीव्र अपक्षय और क्षरण ने छोटा नागपुर पठार क्षेत्र को लेटराइट मिट्टी वाले इलाके में बदल दिया है।
  • इस पठार में कई नदियां हैं, जो अलग-अलग दिशाओं में प्रवाहित होते हुए अरीय अपवाह तंत्र का निर्माण करती हैं।
    • सोन नदी पठार के उत्तर-पश्चिमी भाग में बहते हुए गंगा में मिल जाती है।
    • दामोदर, सुवर्णरेखा, उत्तरी कोयल, दक्षिणी कोयल और बराकर नदियां, इस क्षेत्र में एक वृहत अपवाह तंत्र का निर्माण करती हैं।
  • हजारीबाग पठार दामोदर नदी के उत्तर में स्थित है, जिस की औसत ऊंचाई समुद्र तल से 600 मीटर है।इस पठार में पृथक पहाड़ियां हैं और यह व्यापक क्षरण के कारण एक समप्राय मैदान की भांति प्रतीत होता है।
  • दामोदर घाटी के दक्षिण में रांची पठार स्थित है जिसकी औसत ऊंचाई समुद्र तल से 600 मीटर है।यह पठार अत्यधिक विच्छेदित है। आमतौर पर इसमें उर्मिल भूमि मौजूद है, जहाँ रांची (661 मीटर) शहर स्थित है।
  • रांची का पठार दक्षिण-पूर्व में सिंहभूम (पहले यह सिंहभूम जिला था या जिसे अब कोल्हान डिवीजन बना दिया गया है) के पहाड़ी क्षेत्र की तरफ क्रम से झुका हुआ है। उत्तर में यह दामोदर घाटी के द्वारा हजारीबाग पठार से अलग कर दिया जाता है।पठार का पश्चिमी भाग सबसे ऊंचा है और इसे पेटलैंड(patland) कहा जाता है।
  • रांची के पठार से आने वाली नदियां जब पठार के तेज बहाव से काफी कम ऊंचाई के क्षेत्र में प्रवेश करती हैं तो जलप्रपात का निर्माण करती हैं।
    • रांची पठार के दक्षिण भाग में उत्तरी कारों नदी 17 मीटर (56 फीट) ऊंची पेरवा घाघ जलप्रपात का निर्माण करती है। ऐसे प्रपातों को कगारी प्रपात या स्क्रैप फॉल्स कहते हैं।
    • कगारी प्रपात या स्क्रैप फॉल्स के कुछ उदाहरण हैं- रांची के नजदीक सुवर्णरेखा नदी पर हुंडरू जलप्रपात (75 मीटर), रांची के पूर्व में, कांची नदी पर दशम प्रपात (39.62 मीटर), शंख नदी (रांची का पठार) परसदानी प्रपात (60 मीटर)।
  • सिंहभूम क्षेत्र मोटे तौर पर झारखंड के कोल्हान डिवीजन को कवर करता है।यह क्षेत्र धात्विक खनिजों में सम्मिलित है।
  • राजमहल पहाड़ियां, छोटा नागपुर पठार के उत्तर पूर्वी भाग का निर्माण करती है जो ज्यादातर बेसाल्ट से बनी है।
  • छोटा नागपुर का पठार माइका,बॉक्साइट, तांबा, चूना पत्थर, लौह-अयस्क और कोयले जैसे खनिजों का भंडार है।दामोदर घाटी कोयले से समृद्ध है और इसे देश में कोकिंग कोल का प्रमुख केंद्र माना जाता है।

 

मेघालय या शिलांग का पठार
  • राजमहल की पहाड़ियों से आगे विस्तृत प्रायद्वीपीय पठार को मेघालय या शिलांग का पठार कहा जाता है।
  • प्रायद्वीपीय पठार का एक विस्तृत भाग उत्तर पूर्व में भी दिखाई पड़ता है जिसे स्थानीय तौर पर मेघालय या शिलांग के पठार के नाम से जाना जाता है, इसे कार्बी-एंगलॉग का पठार या उत्तरी कछार पहाड़ियां भी कहा जाता है।
  • एक भ्रंश द्वारा छोटा नागपुर के पठार से अलग किया जाता है। और इसकी पश्चिमी सीमा लगभग बांग्लादेश की सीमा से मिलती है।
  • यहाँ तीन मुख्य पर्वत श्रृंखलाएं ( पश्चिम से पूर्व की ओर) हैं- गारो, खासी और जयंतिया।
  • इस पठार का निर्माण मुख्य रूप से धारवेरियन (आर्कियन) क्वार्टजाइट, नाइस, शिष्ट और ग्रेनाइट से हुआ है। इन में कई खनिज जैसे कोयला, चूना पत्थर, यूरेनियम, सिलीमेनाइट, केओलिन और ग्रेनाइट आदि पाए जाते हैं।
  • इसकी औसत ऊंचाई समुद्र तल से 1500 मीटर है।
  • इस पठार के उत्तर में ब्रह्मपुत्र बेसिन है। सुरमा नदी इस पठार में असम से प्रवेश करती है और बांग्लादेश में यह मेघना नदी से मिलती है।
  • इस पठार की सबसे ऊंची शिखर शिलांग है। गारो खासी एवं जयंतिया पहाड़ियों के साथ यह एक ऊंची पठार है। अनेक शिखरों के साथ ये पहाड़ियां पूर्व-पश्चिम दिशा में फैली हुई है। जिनमें से शिलांग शिखर (1,916 मीटर) और नोकरेक शिखर (1,515 मीटर) महत्वपूर्ण हैं।
  • चेरापूंजी और मॉसिनाराम भारत के सबसे अधिक आर्द्रता प्राप्त करने वाले स्थान हैं। जोकि इसी पठार के भाग हैं, तथा खासी पहाड़ियों में स्थित हैं।

 

काठियावाड़ पठार
  • यह गुजरात के काठियावाड़ क्षेत्र में स्थित है, जहां कई पाइपनुमा ज्वालामुखी हैं जो कई पर्वत- श्रृंखलाओं का निर्माण करते है, जैसे गिरनार पर्वत-श्रृंखला, जूनागढ़ पर्वत-श्रृंखला, पावागढ़ पर्वत-श्रृंखला, इत्यादि।
  • नल सरोवर झील (पक्षी अभ्यारण) इस पठार के उत्तर पूर्वी सीमाओं का निर्माण करती है।
  • काठियावाड़ पठार के उत्तर में रण-भूमि स्थित है।
  • मांडव पहाड़ियां और बल्दा पहाड़ियों के रूप में, यहां कुछ ज्वालामुखी चट्टान भी पाई जाती हैं।
  • गिरनार पहाड़ काठियावाड़ पठार की सबसे ऊँची शिखर।

 

दक्कन का पठार
  • यह भारतीय प्रायद्वीपीय पठार की सबसे बड़ी इकाई है, जो पांच लाख वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैली हुई है।
  • इसका आकार त्रिभुजाकार है, जो निम्नलिखित से घिरा है-
    • उत्तर पश्चिम में सतपुड़ा और विंध्याचल से
    • उत्तर में महादेव और मैकाल से
    • पश्चिम में पश्चिमी घाट
    • पूर्व में पूर्वी घाट
  • इसकी औसत ऊंचाई 600 मीटर है।
    • दक्षिण में इसकी ऊंचाई 1000 मीटर तक है जबकि उत्तर में 500 मीटर।
  • इसकी सामान्य ढाल पश्चिम से पूर्व की ओर है जो इसकी प्रमुख नदियों जैसे महानदी, गोदावरी, कृष्णा और कावेरी के प्रवाह से इंगित होती है। इन नदियों द्वारा इस पठार को दो छोटे पठारों में विभाजित किया जाता है:
    • महाराष्ट्र का पठार– इसमें विशिष्ट दक्कन ट्रैप स्थलाकृति है, जिसका निर्माण बेसाल्टिक चट्टान एवं रेगुर द्वारा किया गया है।
    • कर्नाटक पठार (जिसे मैसूर पठार भी कहा जाता है) – देश के पहाड़ी क्षेत्र ‘मलनद’ एवं मैदानी क्षेत्र ‘मैदान’ में विभाजित है।
    • तेलंगाना का पठार|

महाराष्ट्र का पठार

  • महाराष्ट्र का पठार महाराष्ट्र में स्थित है जो दक्कन पठार के उत्तरी भाग का निर्माण करता है।
  • ज्यादातर क्षेत्र लावा से निकले बेसाल्टिक चट्टानों से बनी हुई है। क्षैतिज लावा शीट ने विशिष्ट दक्कन ट्रैप स्थलाकृति का निर्माण किया है।
  • बहिर्जात गतिविधियों के कारण यह क्षेत्र उर्मिल मैदान की भांति प्रतीत होता है।
  • गोदावरी भीम और कृष्णा की चौड़ी एवं उथली घाटियां, अजंता, बालाघाट और हरिश्चंद्र पर्वतमाला जैसी समतल पहाड़ियों और उच्चे टीले से घिरे हुए हैं।
  • पूरा क्षेत्र काली कपास मिट्टी जिसे रेगुर मिट्टी भी कहा जाता है, से ढका हुआ है।

कर्नाटक का पठार

  • कर्नाटक पठार जिसे मैसूर पठार भी कहा जाता है, महाराष्ट्र पठार के दक्षिण में स्थित है।
  • यह क्षेत्र उर्मिल पठार की भांति प्रतीत होता है जिसकी औसतन ऊंचाई 600 से 900 मीटर है।
  • यह पश्चिमी घाट से निकलने वाली कई नदियों से अत्यधिक विच्छेदित है। इसमें तुंगभद्रा और कावेरी नदियां मौजूद हैं।
  • पहाड़ियों का सामान्य विस्तार पश्चिमी घाट के समानांतर है।
  • इसकी सबसे ऊंची शिखर चिकमंगलूर जिले में स्थित बाबा बुदन पहाड़ियों में मुलांगीरी है।
    • बाबा बुदन पहाड़ियां लौह-अयस्क खनन और कॉफ़ी के उत्पादन के लिए प्रसिद्ध है।
  • यह पठार देश के पश्चिमी पहाड़ी क्षेत्र ‘मलनद’ एवं मैदानी क्षेत्र ‘मैदान’ में बंटा हुआ है।
  • दक्षिण में यह पठार पश्चिमी और पूर्वी घाट के बीच सपाट है और नीलगिरी पहाड़ियों से मिलती है।

तेलंगाना का पठार

  • यह धारवाड़ चट्टानों से बना है।
    • धारवाड़ चट्टानों की मौजूदगी के कारण यह खनिज पदार्थों से समृद्ध है।
    • गोंडवाना चट्टाने जो कोयले के मैदान के लिए प्रसिद्ध है गोदावरी घाटी में पाई जाती है।
  • क्षेत्र में तीन नदी तंत्र मौजूद हैं- कृष्णा, गोदावरी एवं पेन्नेरू नदी तंत्र।
    • गोदावरी नदी द्वारा इस पठार को दो भागों में बांटा जाता है।
  • इस पूरे पठार को दो भू-भागों में बांटा गया है- घाट और समप्राय मैदान (peneplains)।
  • छोटा नागपुर पठार के समान इस पठार में भी अच्छी बारिश ( औसतन 100 mm/year) होती है।
  • दक्षिणी भाग की तुलना में उत्तरी भाग नीचा है।

 

दंडकारण्य पठार
  • दक्कन पठार के उत्तर पूर्वी भाग में स्थित घने जंगल से ढके क्षेत्र को दंडकारण्य पठार कहा जाता है।
  • यह छत्तीसगढ़, झारखंड, महाराष्ट्र के पूर्वी भाग और आंध्रप्रदेश के उत्तरी छोर तक फैला हुआ है।

 

छत्तीसगढ़ का मैदानी भाग
  • यह कटोरे के आकार का बेसिन है, जो मैकाल पर्वत श्रृंखला और उड़ीसा की पहाड़ियों के मध्य स्थित है, जिसमें चूना पत्थर और शैल की परतें मौजूद हैं।
  • यह ऊपरी महानदी द्वारा अपवाहित है।
  • मैदान की सामान्य ऊंचाई पूर्व में 250 मीटर से लेकर पश्चिम में 330 मीटर तक है।

महत्त्व

  1. यह भारतीय उपमहाद्वीप का सबसे पुराना और सबसे स्थिर हिस्सा है।
  2. यह धात्विक एवं अधात्विक खनिज संसाधनों दोनों में समृद्ध है। इसमें लोहे, मैंगनीज, तांबा, बॉक्साइट, अभ्रक, क्रोमियम, चूना पत्थर,  आदि के विशाल भंडार हैं।
  3. भारत के गोंडवाना कोयला भंडार का 98% से अधिक इस पठारी क्षेत्र में पाया जाता है।
  4. पठार का उत्तर पश्चिमी भाग उपजाऊ काली मिट्टी से ढका हुआ है जो कपास और गन्ने की खेती के लिए उपयोगी है।
  5. कुछ निम्न भूमि चावल और विभिन्न प्रकार के उष्णकटिबंधीय फलों की पैदावार के लिए उपयुक्त हैं।
  6. यह ऊँचे क्षेत्र घने मूल्यवान जंगलों से आच्छादित हैं।
  7. पश्चिमी घाट से निकलने वाली नदियां पनबिजली उत्पादन के लिए उपयुक्त स्थान प्रदान करती हैं।
  8. प्रायद्वीपीय पठार में कई हिल स्टेशन भी मौजूद हैं जैसे, ऊटी, कोडाईकनाल, पचमढ़ी, महाबलेश्वर, खंडाला, माथेरोन इत्यादि।

हिमालय क्षेत्र

हिमालयी क्षेत्र के पहाड़ों की उत्पत्ति तुलनात्मक रूप से हाल की है, यह युवा वलित पर्वतों से बना है इसमें सबसे ऊंचे पहाड़ और गहरी घाटियाँ हैं

यह महाद्वीपीय विस्थापन के कारण यूरेशियन प्लेटों औरइंडो-ऑस्ट्रेलियाई प्लेटों की टक्कर से बना था।

हिमालयी क्षेत्र अवसादी चट्टानों से बना है भूगर्भिक दृष्टिकोण से यह क्षेत्र अशांत क्षेत्र है, यहां पर प्राय भूकंप आदि घटनाएं होती रहती हैं.

प्रमुख नदियाँ जैसे- सिंधु गंगा और ब्रह्मपुत्र हिमालय से निकलती हैं

हिमालय पर महत्वपूर्ण हिल स्टेशन जैसे-शिमला, मसूरी, दार्जिलिंग नैनीताल आदि पाए जाते हैं,

प्रायद्वीपीय पठार

यह भारतीय उपमहाद्वीप का सबसे पुराना भूभाग है, यह गोंडवानालैंड का हिस्सा था इसमें चौड़ी और उथली घाटियाँ और गोलाकार पहाड़ियाँ हैं

इसका गठन गोंडवाना भूमि के टूटने और बहने से हुआ था

 

प्रायद्वीपीय पठार रूपांतरित और आग्नेय चट्टानों से बना है। भूगर्भिक दृष्टिकोण से यह क्षेत्र शांत है।

 

नर्मदा और ताप्ती गोदावरी, कृष्णा और कावेरी जैसी प्रमुख नदियाँ इनसे उत्पन्न होती हैं

 

प्रायद्वीप पठार पर महत्वपूर्ण हिल स्टेशन जैसे. खंडाला, पंचगनी, ऊटी कोडाईकनाल आदि पाए जाते हैं।

समुद्र तट और तटवर्ती मैदान

हम पहले ही पढ़ चुके हैं कि भारत की एक लंबी तटरेखा है। स्थान और सक्रिय भू-आकृतिक प्रक्रियाओं के आधार पर, इसे मोटे तौर पर दो भागों में विभाजित किया जा सकता है: (i) पश्चिमी तटीय मैदान;(ii) पूर्वी तटीय मैदान|

पश्चिमी तटीय मैदानी क्षेत्र  पूर्वी तटीय मैदानी क्षेत्र
पश्चिमी घाट और अरब सागर के मध्य अवस्थित है। पूर्वी घाट और बंगाल की खाड़ी के मध्य अवस्थित है।
ये मुख्य रूप से कन्याकुमारी तक फैले हुए हैं। सुंदरवन से कन्याकुमारी तक फैला हुआ है।
वे पश्चिमी घाट के समानांतर हैं। पूर्वी घाट के समानांतर हैं।
ये कच्छ, कोंकण, कन्नड़ एवं मालाबार के तटीय मैदानी क्षेत्रों में विभाजित है।  ये उत्कल, आंध्र और कोरोमंडल मैदानी क्षेत्रों में विभाजित हैं।
यह लंबी एवं संकरी है। इनकी चौड़ाई पश्चिमी तट से ज्यादा है।
यह डूबी हुई तटीय मैदानी क्षेत्र है। ये उभरे हुए तटीय मैदानी क्षेत्र हैं।
तटीय मैदानी इलाकों में अत्यधिक बारिश होती है। तुलनात्मक रूप से कम बारिश होती है।
पश्चिमी तटीय मैदानी इलाकों में बहने वाली नदियां डेल्टा का निर्माण नहीं करती हैं। नदियों द्वारा डेल्टा का निर्माण किया जाता है।
मोटी मिट्टी के कारण यहां कृषि कम विकसित है। महीन जलोढ़ मिट्टी के कारण कृषि ज्यादा विकसित है।
महत्वपूर्ण प्राकृतिक बंदरगाह पश्चिमी तट पर अवस्थित हैं कांडला, जवाहरलाल नेहरू पोर्टट्रस्ट, मर्मागाओं  बेंगलुरु, कोचीन कम बंदरगाह अवस्थित हैं।

 

भारत के पश्चिम तटीय मैदान
  • पश्चिमी तटीय पट्टी कैंबे की खाड़ी से लेकर केप कोमोरिन (कन्याकुमारी) तक फैली हुई है।
  • उत्तर से दक्षिण की ओर से इसे निम्नलिखित तरह से बांटा गया है
    1. कच्छ या काठियावाड़ तटीय क्षेत्र
    2. कोंकण तटीय क्षेत्र
    3. कर्नाटक या कन्नड़ तटीय क्षेत्र
    4. केरल या मालाबार तटीय क्षेत्र
  • इसका निर्माण पश्चिमी घाट से निकलने वाली छोटी धाराओं द्वारा जलोढ़ मिट्टी के निक्षेपन से हुआ है।
  • इसमें वृहत संख्या में कोव (एक छोटी खाड़ी), क्रीक (दलदली इलाकों में संकरा जलमार्ग) पाए जाते हैं। और साथ ही कुछ मुहाने/इस्चुअरी (समुद्री स्थलाकृति) भी मौजूद हैं।
    • नर्मदा और ताप्ती के मुहाने सबसे महत्वपूर्ण हैं।
  • केरल का तटीय क्षेत्र या मालाबार तटीय क्षेत्र में कुछ झील, लैगून और अप्रवाही जल (वेंबनाड झील सबसे बड़ी है) भी पाए जाते हैं।

उत्थान एवं  निमज्जन तटवर्ती क्षेत्र

  • निमज्जन तटवर्ती क्षेत्र का निर्माण निम्न भूमि या समुद्र के बढ़ते जलस्तर के कारण होता है। वहीं तटवर्ती क्षेत्रों का उत्थान इसके विपरीत होता है।
  • भारत का पूर्वी तट उत्थित तट है
  • भारत के पश्चिमी तट में उत्थित एवं जलमग्न दोनों क्षेत्र पाए जाते है।
    • तट का उत्तरी भाग, उत्पन्न हुए भ्रंश के कारण जलमग्न है।
    • दक्षिणी भाग (केरल का तट) उत्थित तट का एक उदाहरण है।
  • भू-उत्थान तटवर्ती क्षेत्र
    • कोरोमंडल तट (तमिलनाडु)
    • मालाबार तट (केरल तट)
  • निमज्जन तटवर्ती क्षेत्र
    • कोंकण तट( महाराष्ट्र और गोवा तट)

कच्छ और काठियावाड़ क्षेत्र

  • प्रायद्वीपीय पठार का विस्तृत भाग होने के बावजूद कच्छ और काठियावाड़ को पश्चिमी तटवर्ती मैदान का अभिन्न हिस्सा माना जाता है।(क्योंकि इस क्षेत्र में तृतीयक कल्प के चट्टानों पाए जाते हैं जो दक्कन के लावा से बने हैं)|
  • कच्छ प्रायद्वीप समुद्र और लैगून से घिरा हुआ था जो बाद में, सिंधु नदी द्वारा लाए गए गाद से भर दिया गया।
  • वृहत रण एक लवणीय मैदानी क्षेत्र है जो कच्छ के उत्तर में स्थित है। इसके दक्षिणी विभाग को छोटा रण कहते हैं।
  • काठियावाड़ प्रायद्वीप कच्छ के दक्षिण में स्थित है।
    • इसका केंद्रीय भाग मांडव पहाड़ियां हैं, जहां से कई छोटी धाराएं सभी दिशाओं में बहती हैं। (अरीय अपवाह)
    • गिरनार पहाड़ (1,117 मीटर) सबसे ऊंची शिखर है, जिसकी उत्पत्ति ज्वालामुखीय प्रवृत्ति की है।
    • काठियावाड़ प्रायद्वीप के दक्षिणी भाग में गिर-श्रृंखला अवस्थित है। यहां घने जंगल पाए जाते हैं और गिर शेरों के लिए भी प्रसिद्ध है।

गुजरात के मैदान

  • गुजरात के मैदान कच्छ और काठियावाड़ के पूर्व में स्थित है, जिनका ढलान पश्चिम और दक्षिण पश्चिम की तरफ है।
  • इसका निर्माण नर्मदा, तापी, माही और साबरमती नदियों द्वारा किया जाता है।इस मैदान में गुजरात का दक्षिणी भाग और कैम्बे की खाड़ी का तटीय क्षेत्र शामिल हैं।
  • इस मैदान का पूर्वी भाग उपजाऊ है, लेकिन तट के समीप मुख्य भाग रेत के टीला से ढका हुआ है

कोंकण मैदानी क्षेत्र

  • कोंकण मैदानी क्षेत्र गुजरात के मैदानी क्षेत्र के दक्षिण में है, जो दमन से गोवा तक फैला हुआ है।
  • कोंकण तट पर कई अपरदन जनित विशेषताएं मिलती हैं, जैसे क्लिफ (सीधी चट्टान), भित्तियाँ और अरब सागर के द्वीप।
  • मुंबई के पास थाने-क्रीक एक महत्वपूर्ण लघु-खाड़ी (समुद्र तट के पास एक गौण-खाडी) है, जो एक बेहतरीन प्राकृतिक बंदरगाह प्रदान करती है।

कर्नाटक का तटवर्ती मैदान

  • गोवा से मंगलोर तक|
  • कन्नड़ तट मार्मागांव और बेंगलुरु के बीच फैला हुआ है।
  • कन्नड़ तट संकरा एवं दंतुरित है।
  • यह क्षेत्र लौह-भंडार से समृद्ध है।
  • कुछ जगहों पर पश्चिमी घाट से निकलने वाली धाराएं तिरछी ढाल से नीचे आते वक्त प्रपात का निर्माण करती हैं।
  • शरावती द्वारा एक विशिष्ट जलप्रपात का निर्माण किया जाता है जिसे गरसोप्पा या जोग प्रपात कहते हैं, जिसकी ऊंचाई तिरछी ढलान से उतरते वक्त 271 मीटर है।
  • इस तट की खासियत यहां की समुद्री स्थलाकृति है।

पृथ्वी पर मौजूद सबसे ऊंचा जलप्रपात वेनेजुएला में स्थित एंजल जलप्रपात (979 मीटर) है। जिसके बाद, दक्षिण अफ्रीका के ड्रेकेन्सबर्ग में तुगेला फॉल्स (948 मीटर) है।

केरल के मैदान

  • केरल का तटीय मैदानी क्षेत्र या मालाबार मैदानी तट मंगलौर से कन्याकुमारी तक फैला हुआ है।
  • ये निम्न तटीय मैदान हैं, जिसकी तुलनात्मक चौड़ाई ज्यादा है।
  • मालाबार तट की विशेषता यहां मौजूद झील, लैगून, अप्रवाही जल (backwater), जलमगन हिस्सा (spits) है।
    • मालाबार तट की एक खास विशेषता है –‘कयाल’ (backwater), जो समुद्र तट के समानांतर एक उथला लैगून होता है।
      • इनका प्रयोग मछली पकड़ने, भूमिगत नौपरिवहन और पर्यटन के लिए किया जाता है, प्रत्येक वर्ष पुन्नमडा कयाल, केरल में, नेहरू ट्रॉफी वल्लमकाली (boat race) आयोजित की जाती है।
      • इनमें से सबसे बड़ा वेंबनाड झील है।

 

भारत का पूर्वी तटवर्ती मैदान
  • यह पूर्वी घाट और बंगाल की खाड़ी के मध्य पाया जाता है।
  • इसका फैलाव गंगा डेल्टा से लेकर कन्याकुमारी तक है।
  • यहाँ सुव्यवस्थित ढंग से विकसित डेल्टा पाए जाते हैं, जैसे महानदी, गोदावरी, कृष्णा और कावेरी के डेल्टा।
  • पूर्वी तट पर चिल्का झील और पुलिकट झील (लैगून) के रूप में दो महत्वपूर्ण भौगोलिक विशेषताएं मिलती हैं।
  • पश्चिमी तटवर्ती मैदान की तुलना में पूर्वी तटवर्ती मैदान की चौड़ाई अधिक है और यह उद्गामी तटवर्ती मैदान का उदाहरण है।
  • इस क्षेत्र में महाद्वीपीय जल सीमा समुद्र के अंदर 500 किलोमीटर तक फैली हुई है, जिसके कारण यहा प्राकृतिक बंदरगाहों का निर्माण नहीं हो पाते है।

भारत के पूर्वी तट का कई स्थानीय नाम भी है

  • उत्तर से पश्चिम की ओर यह निम्नलिखित रूप में विभाजित है:-
    1. उत्कल तटीय मैदान
    2. आंध्र तटीय मैदान
    3. तमिलनाडु तटीय मैदान
  • इस मैदान को महानदी और कृष्णा नदी के मध्य उत्तरी सरकार(circars) मैदान के नाम से जाना जाता है और कृष्णा और कावेरी के मध्य कर्नाटकी (carnatic) मैदान के नाम से जाना जाता है।

आंध्र तटीय मैदान और तमिलनाडु तटीय मैदान को समग्र रूप से कोरोमंडल तटीय  मैदान भी कहा जाता है।

उत्कल मैदानी भाग

  • उत्कल मैदान में महानदी डेल्टा सहित उड़ीसा के तटीय क्षेत्र भी शामिल हैं।
  • चिल्का झील इस मैदान की सबसे प्रमुख भौतिक विशेषता है।
    • यह देश की सबसे बड़ी झील है।

आंध्रा का मैदानी क्षेत्र

  • यह उत्कल मैदान के दक्षिण में पाया जाता है और पुलिकट झील तक फैला हुआ है।
    • पुलिकट झील में एक रेत का द्वीप है जिसे श्रीहरीकोटा द्वीप (इसरो द्वारा प्रक्षेपण के लिए प्रयोग किया जाता है) कहा जाता है।
  • गोदावरी और कृष्णा द्वारा डेल्टा का निर्माण किया जाता है।दोनों डेल्टाओं के विलय के कारण, एक भू-आकृति इकाई का निर्माण होता है।
  • इस मैदानी भाग में एक सीधी तट रेखा है और विशाखापट्टनम और मछलीपट्टनम के अलावा यहां अच्छे बंदरगाहों का अभाव देखा जाता है।

तमिलनाडु के मैदानी क्षेत्र

  1. तमिलनाडु का मैदानी भूभाग पुलिकट झील से लेकर कन्याकुमारी तक फैला हुआ है, जो तमिलनाडु के तट से लगा हुआ है।
  2. इसकी औसत चौड़ाई 100 किलोमीटर है।
  3. इस मैदानी भाग की विशेषता कावेरी डेल्टा है जहां यह 130 किलोमीटर चौडा है।
  4. उर्वरक मिट्टी तथा व्यापक स्तर पर सिंचाई की व्यवस्था के कारण, कावेरी डेल्टा को दक्षिण भारत का अन्नागार (granary) कहा जाता है।

 

भारतीय तट रेखाओं का महत्व

 

  1. भारत के तटीय मैदान आमतौर पर उर्वरक मिट्टी से ढके हुए हैं।
    • इन क्षेत्रों में चावल की खेती मुख्य अनाज के तौर पर की जाती है।
  2. भारत के तटीय सीमाओं पर अवस्थित बंदरगाह, व्यापारिक गतिविधियों में मदद करते हैं।
  3. इन तटीय मैदानों में मौजूद अवसादी चट्टानों में खनिज तेल का भंडार पाया जाता है, जो समुद्री अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने में मददगार साबित हो सकते हैं।
  4. इन इलाकों के लोगों का मुख्य व्यवसाय मछली पकड़ना है।
  5. तटीय एवं समुद्री पारिस्थितिकी तंत्र जैसे मैंग्रोव, प्रवाल भित्ति या ज्वारनदमुख और लैगून की प्रचुरता, इन क्षेत्रों में पर्यटन को बढ़ावा देती है।
  6. भारत के तटीय क्षेत्रों में अनुकूल जलवायु होने के कारण, यहां आदर्श-पूर्ण मानव विकास देखा जा सकता है।

 

डेल्टा और ज्वारनदमुख

नदी की प्रवाह प्रणाली के तीन स्तर होते हैं:

 

  • डेल्टा जलोढ़ अभिवृद्धि (निक्षेपण के कारण) है लेकिन यह एक अलग स्थान पर विकसित होते हैं।
  • जलोढ़ अभिवृद्धि के विपरीत, डेल्टा का निर्माण करने वाली निक्षेप में स्पष्ट स्तरीकरण देखा जा सकता है।
    • परिष्कृत पदार्थ पहले ही जमा हो जाते हैं तथा महीन पदार्थ जैसे तलछट और चिकनी मिट्टी समुद्र में प्रवाहित हो जाते हैं।
  • डेल्टा बड़ी नदियों के मुहाने पर पाए जाते हैं –  उदाहरण के लिए, गंगा डेल्टा|
  • नदियों द्वारा लाए गए गाद को समुद्र में फैला दिया जाता है।
  • डेल्टा के विकास के साथ-साथ वितरिकाओं की लंबाई में भी बढ़ोतरी होती है इस तरह समुद्र में डेल्टाओ का लगातार निर्माण होता रहता है।

 

 भारत के महत्वपूर्ण बंदरगाह
  • देश के मुख्य भूमि के 5600 किलोमीटर लंबी समुद्र तट में 13 प्रमुख और 185 छोटे बंदरगाह स्थित है।
  • प्रमुख बंदरगाहों को केंद्र सरकार द्वारा नियंत्रित किया जाता है, जबकि मध्यम और छोटे बंदरगाहों को संविधान की समवर्ती सूची में शामिल किया गया है और संबंधित राज्यों द्वारा प्रबंधित और प्रशासित किया जाता है।

 

पश्चिमी तटीय मैदानी क्षेत्र  पूर्वी तटीय मैदानी क्षेत्र
पश्चिमी घाट और अरब सागर के मध्य अवस्थित है। पूर्वी घाट और बंगाल की खाड़ी के मध्य अवस्थित है।
ये कच्छ से कन्याकुमारी तक फैले हुए हैं। सुंदरबन से कन्याकुमारी तक फैला हुआ है।
वे पश्चिमी घाट के समानांतर हैं। पूर्वी घाट के समानांतर हैं।
आगे ये कच्छ, कोंकण, कन्नड़ एवं मालाबार के तटीय मैदानी क्षेत्रों में विभाजित है। आगे ये उत्कल, आंध्र और कोरोमंडल मैदानी क्षेत्रों में विभाजित हैं।
यह लंबी एवं संकरी है। इनकी चौड़ाई पश्चिमी तट से ज्यादा है।
यह निमज्जन तटीय मैदानी क्षेत्र है। ये उभरे हुए तटीय मैदानी क्षेत्र हैं।
तटीय मैदानी इलाकों में अत्यधिक बारिश होती है। तुलनात्मक रूप से कम बारिश होती है।
पश्चिमी तटीय मैदानी इलाकों में बहने वाली नदियां डेल्टा का निर्माण नहीं करती हैं। नदियों द्वारा डेल्टा का निर्माण किया जाता है।
मोटी मिट्टी के कारण यहां कृषि कम विकसित है। महीन जलोढ़ मिट्टी के कारण कृषि ज्यादा विकसित है।
महत्वपूर्ण प्राकृतिक बंदरगाह पश्चिमी तट पर अवस्थित हैं- कांडला, जवाहरलाल नेहरू पोर्टट्रस्ट, मर्मागाओं  बेंगलुरु, कोचीन| कम बंदरगाह अवस्थित हैं।

 

 

 

ajax-loader