प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री (उड़ान) 

प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री (उड़ान) 

 

मापदंड प्रधानमंत्री (PM) मुख्यमंत्री  (CM)
 

 

 

 

 

 

 

नियुक्ति तथा शपथ

  •      अनुच्छेद – 75
  •      राष्ट्रपति द्वारा नियुक्त किया जाता हैं।
  •      अनुच्छेद – 164
  •      राज्यपाल द्वारा नियुक्त किया जाता हैं।
  •      संविधान में इसके लिए कोई विशिष्ट प्रक्रिया नहीं हैसंसदीय व्यवस्था के अनुसार बहुमत प्राप्त दल के नेता को प्रधानमंत्री/ मुख्यमंत्री के रूप में नियुक्त किया जाता है।
  •     बहुमत स्पष्ट न होने की स्थिति में राष्ट्रपति /राज्यपाल, प्रधानमंत्री/मुख्यमंत्री का चयन और नियुक्ति अपनी व्यक्तिक विवेक की स्वतंत्रता का प्रयोग करके कर सकता है। प्रधानमंत्री/मुख्यमंत्री को एक महीने के भीतर सदन में विश्वास मत प्राप्त करना होता है।
  •      जब प्रधानमंत्री/मुख्यमंत्री की आकस्मिक मृत्यु हो जाए और उसका कोई स्पष्ट उत्तराधिकारी ना हो तब ऐसी स्थिति में राष्ट्रपति /राज्यपाल अपने व्यक्तिगत निर्णय का प्रयोग कर प्रधानमंत्री/मुख्यमंत्री का चुनाव और नियुक्ति करता है।
  •      संवैधानिक रूप से, प्रधानमंत्री/मुख्यमंत्री को संसद/राज्य विधानमंडल के दोनों सदनों में से किसी भी एक सदन का सदस्य होना चाहिए।
  •      एक व्यक्ति जो संसद/राज्य विधान मंडल का सदस्य नहीं है, को छ: महीने के लिए प्रधानमंत्री/मुख्यमंत्री नियुक्त किया जा सकता है, इस समय अवधि में उसे संसद/राज्य विधानमंडल के किसी भी सदन का सदस्य बनना पड़ेगा (यह व्यवस्था उच्चतम  न्यायालय द्वारा एक निर्णय में दी गई)
कार्यकाल
  •      निश्चित नहीं, तथा यह राष्ट्रपति के प्रसादपर्यंत अपने पद पर बना रहता है।
  •      निश्चित नहीं, तथा यह राज्यपाल के प्रसादपर्यंत अपने पद पर बना रहता है।
वेतन
  •      संसद द्वारा निर्धारित होता है।
  •      राज्य विधानमंडल द्वारा निर्धारित होता है।
 

 

शक्तियां और  कार्य

  •      अनुच्छेद 74/163: मंत्रिपरिषद के साथ प्रधानमंत्री/मुख्यमंत्री, प्रमुख के रूप मे राष्ट्रपति/राज्यपाल को उसके कार्यों का अनुपालन करने हेतु सहायता या सलाह देता है।
  •      अनुच्छेद 75/164: अन्य मंत्रियों की नियुक्ति राष्ट्रपति/राज्यपाल द्वारा प्रधानमंत्री/मुख्यमंत्री की सलाह पर की जाएगी, सभी मंत्री राष्ट्रपति/राज्यपाल के प्रसादपर्यंत अपने पद पर बने रहते हैं और सामूहिक रूप से लोकसभा/राज्य की विधानसभा के प्रति उत्तरदाई होते हैं।
  •     प्रधानमंत्री/मुख्यमंत्री त्यागपत्र या मृत्यु होने पर मंत्री परिषद स्वत: विघटित हो जाती है।

 

अनुच्छेद याद रखने की ट्रिक केंद्र और राज्य सरकारों के बीच ‘89′ की भिन्नता होती है, जैसेकार्यपालिका + अधिकांश मामलों में विधायी अंग (सभी में नहीं)। उदाहरणप्रधानमंत्री/मुख्यमंत्री की नियुक्ति-75+ 89 = 164, अर्थात अनुच्छेद 75 में प्रधानमंत्री की नियुक्ति का प्रावधान है वही अनुच्छेद 164 में मुख्यमंत्री के नियुक्ति का प्रावधान है।

 

ajax-loader